ताज़ा खबर

विनी मंडेला जीवन परिचय | Winnie Madikizela Mandela Biography In Hindi

विनी मंडेला जीवन परिचय | Winnie Madikizela Mandela Biography In Hindi 

विनी मंडेला दक्षिण अफ्रीका के पहले ब्लैक प्रेसिडेंट की तलाकशुदा पत्नी है, इसी के साथ इन्होने दक्षिण अफ्रीका में स्वतंत्रता की लड़ाई में भी महत्वपूर्ण भूमिका थी और साथ ही इन्होने वहाँ रंग भेद की निति का भी पुरजोर विरोध किया था. ये दक्षिण आफ्रिका की रंगविरोधी निति की कार्यकर्ता और राजनीती से संबंध रखती है. इन्होने कई सरकारी पदों जैसे कला, संस्कृति, विज्ञान और प्रोद्योगिकी आदि में उप मंत्री पद पर रहते हुए कई काम किये. आज 2/4/2018 को इनका निधन 81 वर्ष की उम्र में लंबी बीमारी के चलते हो गया है.

विनी मंडेला

विनी मंडेला के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी Important Information about Winnie Mandela :

नाम Name विनी मदिकिज़ेला मंडेला
पेशा Occupation दक्षिण आफ्रिका पार्लियामेंट सदस्य
जन्म Birth 26 सितम्बर 1936
मृत्यु Death 2 अप्रैल 2018
नागरिकता Nationality दक्षिण अफ़्रीकी
पति Spouse नेल्सन मंडेला (1958-1996)
बेटियाँ Daughters 2
बेटियों के नाम Daughter’s Name ज़ेनानी, ज़िद्ज़िवा
शिक्षा Education स्टडी ऑफ़ सोशल वर्क,

इंटरनेशनल रिलेशन में स्नातक

 

पोस्ट Post कला, साहित्य, विज्ञान और प्रोद्योगिकी में उप मंत्री

जन्म, मृत्यु और शिक्षा Birth, Death and Education:

विनी मंडेला का जन्म ब्रिटिश दक्षिण अफ्रीका में बिजाना में एक झोसा परिवार में हुआ था. इनकी जन्म तारीख 26 सितम्बर 1936 है. इन्होने सोशल वर्क की पढाई जेन होफ्मेय्र स्कूल से की. आज 2/4/2018 को इनका निधन लंबी बीमारी के चलते हो गया. इनकी मृत्यु पर विक्टर डलामिनी ने अपने बयान में कहा कि वर्ष की शुरुआत से ही वे बीमार थी और इसके चलते कई बार अस्पताल में भर्ती हुई. और सोमवार की सुबह अपने सभी रिश्तेदारों और प्रियजनों की मौजूदगी में अपनी देह का त्याग किया.

प्रारंभिक जीवन Early Life :

विनी 8 भाई बहनों में 4 नंबर पर थी, इनके परिवार में माता पिता के अलावा 7 बहने और 1 भाई था. इनके माता पिता कोलंबस और गेरत्रुदे दोनों ही शिक्षक थे. कोलंबस इतिहास के शिक्षक थे और साथ में वे प्रधान अध्यापक भी थे और गेरत्रुदे डोमेस्टिक साइंस की शिक्षिका थी. जब ये मात्र 9 वर्ष की थी तो इनकी माँ का निधन हो गया, जिससे इनका परिवार बट गया, हर भाई बहन को अलग अलग रिश्तेदारों के यहाँ भेज दिया गया. बाद में शिक्षा के दौरान विनी मंडेला अपनी स्कूल की हेडगर्ल बनी. प्रारंभिक पढाई के बाद ये जोहानसबर्ग गयी यहाँ इन्होने जॉन  होफ्मेय्र स्कूल से सोशल वर्क की पढ़ाई की, इस समय रंगभेद के कारण अश्वेत लोगो की शिक्षा पर प्रतिबंध  लगा हुआ था, इसके बावजूद इन्होने अपनी पढाई पुरी की. साल 1956 में इन्होने सोशल वर्क में अपनी डिग्री हासिल की. इसके कई वर्षो बाद इन्होने यूनिवर्सिटी ऑफ़ वित्वातेर्स्रंद से इंटरनेशनल रिलेशन में बेचलर डिग्री हासिल की. इनका पहला जॉब बरग्वानाथ हॉस्पिटल सोवेतो में एक सोशल वर्कर के रूप में था.

साल 1958 में इन्होने पेशे से वकील और रंगभेद निति के कार्यकर्त्ता नेल्सन मंडेला से जोहान्सबर्ग में शादी की, यह एक प्रेम विवाह था परंतु इनकी शादी 38 वर्ष ही चल पाई और इनके 2 बच्चें भी है. साल 1963 में नेल्सन मंडेला को रिवोनिया ट्रायल के बाद कैद कर लिया गया, इनकी कैद के बाद इनकी पत्नी ने 27 सालो तक इनका प्रतिनिधित्व किया. इन वर्षो में इन्होने घरेलु रंगभेद की निति के खिलाफ भी अपनी लड़ाई लड़ी. अपने इन आंदोलनों के चलते उन्हें कई बार राज्य सुरक्षा विभाग द्वारा हिरासत में लिया गया और इन्होने कई महीने जेल में बिताये.

बच्चें और वैवाहिक जीवन में विवाद Children and Dispute in married Life :

विनी मंडेला और नेल्सन मंडेला के दो बच्चे है. इनकी बड़ी बेटी एज़िन्हले का जन्म साल 1959 में हुआ और छोटी बेटी ज़िन्द्ज़ी का जन्म एक साल बाद 1960 में हुआ. नेल्सन मंडेला को 1963 में हिरासत में लिया गया और उन्हें साल 1990 में रिहाई मिली. यह कपल 1992 में अलग हो गया और इन्होने 1996 में कोर्ट के बाहर सेटलमेंट करके तलाक को अंतिम रूप दिया. वे कोर्ट के द्वारा अपने पति की संपत्ति में आधा हिस्सा 5 करोड़ अमेरिकी डॉलर चाहती थी परंतु किसी कारण वश कोर्ट की सुनवाई में शामिल नहीं हो पाई यह केस डिसमिस हो गया. साल 1994 में जब एक इंटरव्यू के दौरान उनसे इस तलाक के दौरान सुलह की संभावना के बारे में बात की गयी तो उन्होंने कहा की वे देश की प्रथम महिला होने का दर्जा पाने के लिए लड़ाई नहीं लड़ रही है. ना ही वे ऐसी महिला है जो पैसो और आभूषण के प्रति आकर्षित हो. इस सबके बाद इनका तलाक 1996 में संपन्न हुआ.

रंगभेद के खिलाफ लड़ाई  Fight Against Apartheid

विनी की राजनेतिक गतिविधियों के कारण कई बार नेशनल पार्टी के सरकार द्वारा हिरासत में लिया गया. उनके उप्पर कई अत्याचार किये गये, घर में भी निगरानी रखी गई, यहाँ तक की इन्हें एक वर्ष का एकांतवास भी दिया गया और अपने शहर से दुर रखा गया. अपने पति के कारावास के समय ये रंगभेद के खिलाफ प्रमुख विरोधी की तरह उभरकर आई. कई वर्षो तक इन्हें ब्रांडफोर्ड से निर्वासित किया गया था साल 1969 में इन्होने प्रिटोरिया सेंट्रल जेल में एकांत कारावास में 18 महीने की सजा भुक्ति थी. इस समय विनी पश्चिमी वर्ल्ड में अच्छी तरह से जानी जाने लगी. उन्होंने रंगभेद के खिलाफ कई संघर्ष किये और इस दौरान एएनसी को इनके संघर्षो का प्रतिक मना गया.

1985 में, श्रीमती मंडेला ने दक्षिण अफ्रीका में उनके मानव अधिकारों के काम के लिए साथी कार्यकर्ता एलन बोएसाक और बेयर्स नाउडे के साथ रॉबर्ट एफ कैनेडी ह्यूमन राइट्स पुरुस्कार जीता. यह पुरस्कार रॉबर्ट एफ केनेडी सेंटर फॉर जस्टिस एंड ह्यूमन राइट्स द्वारा उस व्यक्ति या समूह को दिया जाता है,जिसने मानव अधिकार के लिए आंदोलन में भाग लिया हो. इसके अलावा इन्होने 1988 में उन्होंने 100 ब्लैक महिलाओं के राष्ट्रीय गठबंधन से विशिष्ट सेवा के लिए एक कैंडेस पुरस्कार भी प्राप्त किया है.

विनी मंडेला से जुड़े विवाद controversies Related to Winnie Mandela

  • सर्वप्रथम विनी मंडेला की छवि तब धूमिल हुई थी जब इन्होने अपने 13 अप्रैल 1986 को अपने भाषण देश के आजाद कराने के लिए लोगों को टायर और पेट्रोल का प्रयोग कर जिंदा जलाने का ऐलान किया था.

·         इसके अलावा इसके अलावा उनकी प्रतिष्ठा को ख़राब करते हुए उसके अंगरक्षक, जैरी मुस्विज़ी रिचर्डसन ने आरोप लगाया था कि विनी ने उन्हें अपहरण और हत्या का आदेश दिया था. साल 1991 में विनी को अपहरण के आरोप में 6 साल की सजा सुनाई गयी

  • साल 2003 में इन्हें चोरी और धोकादडी के आरोप में दोषी पाया गया था, प्राप्त खबरों के मुताबिक न्यायलय ने इन्हें धोकादडी के 43 मामलो और चोरी के 25 मामलों में दोषी पाया गया था. परंतु विनी हमेशा से इन आरोपों को मानने से इंकार करती आई है. इसके संबंध में इन्हें उस समय पांच साल की सजा सुनाई गयी थी. परंतु इन्हें अपनी सजा का 1 साल ही जेल में गुजरना पढ़ा था बाकी समय वे समाज सेवा करके सजा काट सकती थी.

लोकतंत्र में भूमिका democracy

दक्षिण अफ्रीका के लोकतंत्र में ये वाइट कम्युनिटी के साथ सुलह के पक्ष में नहीं थी जबकि इनके पति नेल्सन मंडेला सुलह के लिए तैयार थे. जब इनके पति 1990 में कैद से मुक्त हुए तो इस समय इन्हें पहली बार अपने पति के साथ देखा गया था, परंतु जब इनके पति को पता चला की उनके कैद के समय ये उनसे विश्वासघात कर रही थी तो इन्होने 1992 में अलग होने का फैसला ले लिया. साल 1996 में इनका तलाक मंजूर किया गया, परंतु तलाक के बाद इन्होने अपने सरनेम मंदिकिला मंडेला को अपनाएं रखा. साल 1994 में इन्हें कला, संगीत, विज्ञान और प्रोद्योगिकी में उप मंत्री पद दिया गया, परंतु भ्रष्टाचार के आरोप के चलते इन्हें इस पद से बर्खास्त कर दिया गया.

इन सब के बावजूद ये कई एएनसी समर्थकों में काफी लोकप्रिय रहीं. दिसंबर 1993 और अप्रैल 1997 में ये एएनसी वीमेन लीग में अध्यक्ष पद के लिए चुनाव में प्रत्याशी बनी परंतु 1997 में इन्होने अपनी उम्मीदवारी एएनसी डिप्टी प्रेसिडेंट के लिए अपनी उम्मीदवारी वापस लेली.

राजनीती में वापसी Return to politics:

जब एएनसी ने अपने राष्ट्रीय कार्यकारिणी चुनाव की घोषणा की तो उस वक्त मंडेला ने 2,845 वोटो के साथ पहला स्थान प्राप्त किया.

·         दंगा पीड़ितो से माफी : मंडेला ने मई-जून 2008 में हिंसा की आलोचना की जो कि जोहान्सबर्ग में शुरू हुई और पूरे देश में फैल गई, और दंगों के पीछे भावनाओं के लिए उपयुक्त दंगो के लिए सरकार की कमी को दोषी ठहराया. उन्होंने दंगे में पीड़ित व्यक्तियों से माफी मांगी. उन्होंने एक पीड़ित परिवार को रहने के लिए अपने घर की पेशकश की.

  • 2009 के आम चुनाव : 2009 के आम चुनाव में मंडेला ने पांचव स्थान प्राप्त किया. यह अपनी पार्टी के लिए गरीबों से समर्थन प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाती थी.
  • 2010 में नादिरा नैपुल के साथ इंटरव्यू : साल 2010 में मंडेला नादिरा नैपुल के साथ एक इंटरव्यू में नजर आई थी. इस इंटरव्यू में इन्होने अपने पति के खिलाफ बयान देते हुए कहा था की वे केवल पैसा इकठ्ठा करने के उद्देश्य से बहार आये है. उन्होंने इस समय उनके नोबल शांति पुरुस्कार पर भी सवाल उठाये थे. उन्होंने इस इंटरव्यू में अपने पति को अपनी बेटियों के लिए भी योग्य पिता नहीं घोषित किया था.

इस इंटरव्यू में दिये गये बयानों पर मीडिया ने विनी मंडेला को अपने आरोपों की व्याख्या करने को कहा गया परंतु 14 मार्च 2010 को विनी मंडेला की तरफ से एक स्टेटमेंट आया जिसमे इस इंटरव्यू को गलत कहा गया.

उपाधि :

जनवरी साल 2018 में, मेकरेरे यूनिवर्सिटी, कंपाला, युगांडा के विश्वविद्यालय परिषद और विश्वविद्यालय सीनेट ने दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद के खिलाफ लड़ाई के सम्मान में विनी नोमज़ानो मैडिकिज़ेला-मंडेला को मानद डॉक्टर ऑफ लॉ (एलएलडी) की डिग्री से पुरुस्कृत किया.

अन्य पढ़े:

  1. भारत आधारित न्यूट्रिनो वेधशाला प्रोजेक्ट
  2. क्या है इच्छा मृत्यु, भारत में इच्छा मृत्यु पर कानून व अरुणा शानबाग केस
  3. अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निरोधक) अधिनियम (एसटी एसी एक्ट)- 1989 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *