Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
ताज़ा खबर

ज़बान संभाल के ओल्ड टीवी सीरियल | Zabaan Sambhal ke tv serial in hindi

Zabaan sambhal ke tv serial in hindi 90 के दशक में आया ये सीरियल एक बहुचर्चित सीरियल है. इस सीरियल में अभिनेता पंकज कपूर एक नये रूप में दर्शकों के सामने आये. ये सीरियल एक कॉमेडी सीरियल था, जिसकी कहानी एक हिंदी के शिक्षक और उनके छात्रों के इर्द गिर्द होती थी. सन 1993 – 1994 के दौरान ये डी डी मेट्रो चैनल पर बहुत मशहूर हुआ था. ऐसा माना जानता है कि ये सीरियल एक ब्रिटिश सीरियल ‘माइंड योर लैंग्वेज’ का हिंदी रुपंतारण था. इस सीरियल के बारे में यहाँ दर्शाया गया है.

zaban sambhal ke

ज़बान संभाल के ओल्ड टीवी सीरियल की कहानी (Zabaan sambhal ke Tv serial story in hindi)

ये सीरियल एक सिचुएशनल कॉमेडी था. इस सीरियल में पंकज कपूर मोहन भारती की भूमिका निभा रहे थे. मोहन भारती एक इंजिनियर रहते हैं, और इंजिनियर होते हुए भी बेरोज़गारी की मार से बच नहीं पाते. इसके बाद उन्हें एक भाषा विद्यालय में हिंदी पढ़ाने के लिए भेजा जाता है. उस विद्यालय में कई देश के विभिन्न जगहों से और कुछ विदेशी छात्र भी पढने आते हैं. इसके बाद छात्रों और हिंदी के शिक्षक पंकज कपूर के बीच की अवस्थाएं हंसी का कारण बनती हैं. ये सीरियल अपने अनोखे पात्रों और कहानियों की वजह से लोगों में बहुत पसंद किया गया.

ज़बान संभाल के सीरियल के पात्र और कलाकार (Zabaan sambhal ke serial cast)  

इस सीरियल में कई मजेदार पात्र थे, जिनकी भूमिका कई मंझे हुए अभिनेता बहुत ही बारीक़ी से निभा रहे थे. हालाँकि इस सीरियल की मुख्य भूमिका मोहन भारती के लिए पहले जाने माने अभिनेता फ़ारूक़ शेख को चुना गया था, परन्तु बाद में ये रोल पंकज कपूर के हिस्से में आया और उन्होंने इस भूमिका को बखूबी निभाया. नीचे एक एक करके कुछ मुख्य पात्रों का विवरण दिया जा रहा है.

  • मोहन भारती : इस किरदार की भूमिका में पंकज कपूर थे. मोहन भारती एक अभियंता रहते हैं, जिन्हें ज़बरदस्ती ‘नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ लैंग्वेज’ (नील) में हिंदी पढ़ने को कहा जाता है. हालाँकि मोहन की रूचि अध्यापन कार्य में नहीं रहती, परन्तु वे अपनी एकमात्र नौकरी को छोड़ भी नहीं पाते. मोहन भारती वहाँ पढ़ रहे विद्यार्थियों के मुकाबले देखने में भी अच्छे नहीं होते है और साथ ही क्लास की सभी लड़कियों से क़द में छोटे हैं.
  • लता दीक्षित : इस किरदार को अभिनेत्री शुबहा खोटे निभा रहीं थीं. शो में इन्हें मिस दीक्षित के नाम से पुकारा जाता था. इन्हें इनके शारीरिक वजन और नक चढ़े स्वाभाव की वजह से कोई पसंद नही करता था.
  • अर्चना : अर्चना मिस दीक्षित की सेक्रेटरी रहती हैं, इनकी भूमिका मिनाक्षी शुक्ला निभा रही थीं. इनकी भूमिका हालाँकि छोटी छोटी सी ही होती थी, लेकिन लगभग सभी एपिसोड में इन्हें देखा जाता था.
  • चतुर्वेदी : चतुर्वेदी नील का चपरासी था. इस भूमिका में चंदू परखी नज़र आये. चतुर्वेदी का मुख्य काम सभी शिक्षकों को चाय पिलाना था. इन्हें अक्सर अर्चना को चुटकुले सुनाते हुए देखा जाता था.
  • विजया : विजया एक छात्रा है, जो कि मदुरई से नील में पढने आई है. इसकी भूमिका में विख्यात तमिल अभिनेत्री भावना बालस्वर नज़र आई.
  • चार्ल्स स्पेंसर : ये एक ब्रिटिश लेखक हैं जो भारत में रहते हैं. सीरियल में इनकी भूमिका में मशहूर अभिनेता और थिएटर कलाकार टॉम अल्टर को देखा गया.
  • मक्खन सिंह : मक्खन सिंह की भूमिका में राजिंदर मेहरा नज़र आये. मक्खन सिंह एक सरकारी कर्मचारी हैं, जिनका तबादला पंजाब से मुंबई हो जाता है.
  • जेनिफ़र जोंस : इस किरदार की भूमिका में तनाज़ इरानी नज़र आयीं. जेनिफ़र अमेरिकन एयरलाइन्स में एयर होस्टेस का काम करती है. ये एक ख़ूबसूरत लड़की है जिसकी तरफ कई छात्र आकर्षित रहते हैं.
  • शेख रुसलान एल सुलाह : ये एक अरबी लड़का है जिसके पास खूब पैसे हैं. ये अरब के बाक़ी शेखों की तरह अरबोई पगड़ी पहने रहता है. इसकी हिंदी पूरी क्लास में सबसे वाहियाद होती है, जो दर्शकों को हंसने पर मजबूर कर देती है. इस किरदार में कैथ स्टीवेंसन नज़र आये.

सीरियल के दुसरे सीजन में कुछ अन्य किरदारों को भी शामिल किया गया. दुसरे सीजन में एक गुजराती लड़की डिंपल शाह, मिस्टर मुख़र्जी, रॉक पटेल आदि किरदारों को जोड़ा गया.

मिस्टर मुख़र्जी की भूमिका में अनंत महादेवन और रॉक पटेल की भूमिका में जावेद जाफरी नज़र आये. रॉक पटेल एक एनआरआई लड़का है, जो ‘रैप’ करता रहता है. मोहन भारती को रॉक पटेल के ‘यो’ कहने पर बहुत चिढ होती है.

ज़बान संभाल के सीरियल पर एक नज़र (Zabaan sambhal ke serial)

सीरियल का नाम ज़बान संभल के
निर्देशक राजीव मेहरा
जेनर सिचुएशनल कॉमेडी
बैनर ईगल फ़िल्म्स
समयावधि 24 मिनट
प्रथम सीजन 1993 – 1994
द्वितीय सीजन 1997- 1998
चैनल डी डी मेट्रो / होम टीवी
पिक्चर फॉर्मेट 480 i (SDTV)
सीजन 1 एपिसोड संख्या 54
सीजन 2 एपिसोड संख्या 52

अन्य पढ़े –

Ankita

Ankita

अंकिता दीपावली की डिजाईन, डेवलपमेंट और आर्टिकल के सर्च इंजन की विशेषग्य है| ये इस साईट की एडमिन है| इनको वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ और कभी कभी आर्टिकल लिखना पसंद है|
Ankita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *