ताज़ा खबर

हरमनप्रीत कौर का जीवन परिचय | Harmanpreet Kaur Biography and Records in hindi

हरमनप्रीत कौर का जीवन परिचय | Harmanpreet Kaur Biography and Records in hindi

हरमनप्रीत कौर भारतीय महिला क्रिकेट खिलाड़ी हैं. कुछ दिन पहले हुए क्रिकेट महिला विश्व कप में इन्होने बहुत अच्छा खेल का प्रदर्शन किया. इस समय हरमनप्रीत देश की उन काबिल बेटियों में हैं, जिनसे युवा वर्ग खूब प्रभावित हो रहा है. इन्होने अपने परिश्रम से महिला क्रिकेट को एक नया आयाम देने की कोशिश तो कर रहीं हैं, साथ ही कई युवतियों में क्रिकेट के प्रति दिलचस्पी भी बढ़ा दी हैं. ये एक सफ़ल बल्लेबाज़ के तौर पर भारत महिला क्रिकेट टीम में खेल रही हैं.

हरमनप्रीत कौर का जीवन परिचय

हरमनप्रीत कौर का जीवन परिचय

Harmanpreet Kaur Biography in hindi

हरमनप्रीत कौर का जन्म और प्रारम्भिक जीवन (Harmanpreet Kaur Birth and Early Life)

हरमनप्रीत कौर का जन्म 8 मार्च साल 1989 में पंजाब के मोगा में हुआ था. इनके पिता का नाम हरमंदर सिंह भुल्लर और माता का नाम सतविंदर सिंह है. इनके पिता एक अच्छे वॉलीबॉल और बास्केटबॉल खिलाड़ी हैं. इनकी छोटी बहन हेमजीत सिंह मोगा के गुरुनानक कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर कार्यरत हैं. इनकी बहन ने अंग्रेजी में स्नाताक्कोतर (एमए) किया है. हरमनप्रीत कौर क्रिकेट से तब जुडी जब उनका दाख़िला ज्ञान ज्योति स्कूल अकादमी में हुआ. यह स्कूल इनके घर से 30 किलोमीटर की दूरी पर था. यहाँ पर ये शुरूआती दौर में कमलदीश सिंह से क्रिकेट की बारीकियां सीखने लगीं. साल 2014 में मुंबई आ गयीं, जहाँ पर इनकी नौकरी भारतीय रेल के अंतर्गत थी. हरमनप्रीत कौर क्रिकेट में वीरेंदर सहवाग से प्रभावित हैं.

हरमनप्रीत कौर का करियर (Harmanpreet Kaur Career)

हरमनप्रीत कौर ने औपचारिक तौर पर क्रिकेट में अपना डेब्यू महज 20 वर्ष की आयु में वर्ष 2009 में पकिस्तान वीमेन के अंतर्गत अर्क राइवल्स के विरुद्ध किया. इसी वर्ष विमेंस क्रिकेट विश्वकप में भी इन्हें खेलने का मौक़ा मिला. इस टूर्नामेंट में खेलते हुए उन्होंने एक मैच में 4 ओवर की गेंदबाजी में महज 10 रन दिए.

जून 2009 में इन्होने अपना ट्वेंटी 20 अंतर्राष्ट्रीय डेब्यू किया. यह टूर्नामेंट ‘2009 आईसीसी विमेंस वर्ल्ड ट्वंटी 20” था. यहाँ इन्होने इंग्लैंड वीमेन के विरुद्ध अपना डेब्यू किया था. काउंटी ग्राउंड में इंग्लैंड के विरुद्ध अपने टी-20 डेब्यू मैच में इन्होने 7 गेंदों में महज 8 रन ही बनाए.

साल 2012 में होने वाले वीमेन’स टी-20 एशिया कप के फाइनल मैच में इन्होने भारतीय क्रिकेट महिला टीम की कप्तानी भी की. इस समय महिला टीम की तात्कालिक कप्तान मिथाली राज और उपकप्तान झूलन गोस्वामी दोनों ही घायल होने की वजह से मैच से बाहर थीं. इस सीरीज में इनकी कप्तानी का डेब्यू पाकिस्तानी वीमेन क्रिकेट टीम के विरुद्ध हुआ. इनकी कप्तानी में भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने 81 रनों से पकिस्तान को हरा कर एशिया कप अपने नाम कर लिया.

साल 2013 में मार्च में इन्हें बांग्लादेश वीमेन टूर के लिए महिला टीम का कप्तान नियुक्त किया गया. यहाँ की सीरीज में एकदिवासीय मैच खेले जाने वाले थे. इस सीरीज के दुसरे मैच में हरमनप्रीत कौर ने अपना दूसरा शतक बनाया. इस सीरीज में इन्होने 97.5 की औसत से कुल 195 रन बनाए, जिनमे एक शतक और एक अर्धशतक शामिल था. इस टूर्नामेंट में इन्होने एक औसत गेंदबाजी करते हुए 2 विकेट भी झटके.

साल 2014 में आठ महिला क्रिकेटरों ने टेस्ट डेब्यू किया, जिसमे हरमनप्रीत कौर भी शामिल थीं. यह टेस्ट मैच इंग्लैंड वीमेन क्रिकेट टीम के विरुद्ध खेला जाने वाला था. यह टेस्ट वोर्म्स्ले के सर पॉल गेट्टी ग्राउंड स्टेडियम में खेला जाने वाला था. हालाँकि इस टेस्ट मैच में ये अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सकीं, और महज 9 रन ही इनकी तरफ़ से भारतीय महिला टीम के खाते में जुड़े.

इसके बाद नवम्बर 2015 में होने वाले दक्षिण अफ्रीका के विरुद्ध खेले जाने वाले टेस्ट मैच में इन्होने 9 विकेट झटके. यह टेस्ट मैच मैसूर के गंगोत्री ग्लेड क्रिकेट ग्राउंड में खेला जा रहा था. इस टेस्ट मैच में 9 विकेट लेने पर भारतीय महिला टीम को टेस्ट मैच पारी से जितने का अवसर प्राप्त हुआ.

जनवरी 2016 में उन्होने ऑस्ट्रेलिया सीरीज के एक मैच में 31 गेंद में 46 रन बनाए. यह मैच अंतर्राष्टीय टी- 20 मैचों में एक बड़ा चेस था. अपने अच्छे क्रिकेट में प्रदर्शन की बदौलत भारतीय महिला टीम को सीरीज जीतने का मौक़ा मिला. इस फॉर्म को बरक़रार रखते हुए इसी वर्ष होने वाले महिला टी – 20 क्रिकेट विश्व कप में इन्होने एक अच्छा प्रदर्शन किया. इस विश्व कप में प्रदर्शन करते हुए इन्होने चार मैचों में बल्लेबाज़ीं करते हुए 89 रन बनाए और गेंदबाजी करते हुए 7 विकेट भी लिये. इसी वर्ष जून में ये पहली भारतीय महिला क्रिकेटर बनीं, जिसे किसी विदेशी टी- 20 फ्रैंचाइज़ी ने साइन किया. इन्हें वीमेन बिग बैश लीग चैंपियन के लिए सिडनी थंडर ने 2016-17 के सीजन के लिए साइन किया.

साल 2017 वीमेन क्रिकेट विश्वकप में भी इन्होने बहुत बेहतर प्रदर्शन किया. इन्होने 20 जुलाई को डर्बी में होने वाले विश्व कप सेमी फाइनल में ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध 115 गेंदों में 171 बना कर नाबाद पारी खेली. यह स्कोर इस समय भारतीय महिला क्रिकेट में दूसरा स्थान रखता है. पहले स्थान पर किसी पारी में सर्वाधिक रन बनाने वाली भारत की ही महिला खिलाड़ी हैं जिनका नाम दीप्ति शर्मा है, जिन्होंने 188 रन बनाए थे. हालाँकि किसी नॉक आउट विश्व कप इन्निंग में सर्वाधिक रन बनाने की सनद इन्हें ही हासिल है, जिन्होंने करेन रोल्टोन का 107 रनों की नाबाद पारी का रिकॉर्ड तोड़ा. हरमनप्रीत कौर 2017 में हुए महिला विश्वकप में फाइनल तक पहुँचने वाली महिला भारतीय टीम में शामिल थीं. इस विश्व कप के फाइनल में भारतीय महिला क्रिकेट टीम इंग्लैंड से महज 9 रनों से हार गयीं.

हरमनप्रीत कौर का विवाद (Harmanpreet Kaur Controversy)

हरमनप्रीत कौर के साथ एक छोटा सा विवाद भी संलग्न है. वीमेन बिग बैश टूर्नामेंट में खेलते हुए इन पर ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेट कोड ऑफ़ कंडक्ट को तोड़ने का आरोप लगा था. यह आरोप क्रिकेट से सम्बंधित सामान को क्षति पहुंचाने की वजह से ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट कोड ऑफ़ कंडक्ट के आर्टिकल 2.1.2 के आधार पर लगा था.  

हरमनप्रीत कौर की व्यक्तिगत जानकरी (Harmanpreet Kaur Personal Life)

नाम हरमनप्रीत कौर
बल्लेबाजी दायें हाथ की बल्लेबाज
गेंदबाजी मीडियम फ़ास्ट
जर्सी संख्या 84 (भारत)/ 45 (सिडनी)
स्टेट टीम लीसेस्टरश्राइन वीमेन, पंजाब वीमेन, रेलवे वीमेन, सिडनी थंडर
पसंदीदा फ़िल्म दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे
पसंदीदा अभिनेता रणवीर सिंह
हॉबी गाने सुनना/ गाडी चलाना

इस तरह से हरमनप्रीत कौर ने अपने क्रिकेट से विश्व भर में देश का नाम रौशन किया है. इन्हें देख कर कई लड़कियों को सपने पूरे करने का जज्बा हासिल होता है.

अन्य पढ़े:

Surbhi

सुरभिदीपावली वेबसाइट की लेखिका है| जिनको जीवनी व हिंदी के अन्य सभी विषयों मे लिखने का शोक है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *