हिंदी कविता : देंगे आतंकवाद को करारा वार

देंगे आतंकवाद को करारा वार हिंदी कविता अपनी इस हिंदी कविता से यही कहना हैं कि भले ये आतंक हुआ पाकिस्तान पर लेकिन इसका हम सभी विरोध करते हैं | बच्चों ने किसी का क्या बिगाड़ा हैं वो तो मासूम हैं | सोचा होगा उन आतंकियों ने इससे हौसले टूटेंगे लेकिन ऐसा नहीं  हैं इससे कई हज़ार एक होंगे | सयुंक्त राष्ट्र संघ के साथ मिलकर इन आतंकियों के खिलाफ लड़ना हैं |

Pakistan par aatanki hamala Hindi Kavita

देंगे आतंकवाद को करारा वार

क्या नज़ारा हैं हैवानियत का
मासूमों के कत्ले आम का

कहते हैं लिया हैं बदला
अपने बीवी बच्चो का

ओ कायरो

कभी शेर सा दहाड़ कर देखों
क्यूँ गीदड़ की तरह वार करते हो

लड़ना हैं तो सामने आओ
क्यूँ बीवी के पल्लू में छीपते हो  

माना

ये आतंक हुआ दुश्मन के धरातल पर
पर, इंसानियत हैं हमारे अन्दर भर-भर कर

देंगे अपने भाईयों का साथ
लेकर हाथों में हाथ

हैं भारत माँ के लाल हम
लड़ेंगे और जीतेंगे हर एक जंग ||

कर्णिका पाठक

Hindi Kavita On terrorism, आतंकवाद हिंदी कविता, Terrorist Poem In Hindi

Poem In Hindi यह ब्लॉग कैसा लगा हमे लिखे | अपनी कोई भी कविता, कहानी या लेख प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमे deepawali.add@gmail.com पर सम्पर्क करे | आपकी कृति आपके नाम एवं फोटो के साथ प्रकाशित की जाएगी |

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

bewafa bewafai shayari

बेवफ़ा / बेवफ़ाई पर शायरी

बेवफ़ाई इश्क का एक ऐसा मंजर हैं जो या तो तोड़ देता हैं या जोड़ …

One comment

  1. nice awesome poem for tererrism

  2. थैंक्यू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *