ताज़ा खबर

कर भला तो हो भला की कहानी | Kar Bhala To Ho Bhala Story In Hindi

कर भला तो हो भला (Kar Bhala To Ho Bhala Story In Hindi) यह एक हिंदी मुहावरा हैं जिसे चरितार्थ करने हेतु एक कहानी की रचना की गई हैं | अपने अच्छे कर्मो के कारण कैसे एक राजा मृत्युदंड से बचता हैं और उसका शत्रु उसका अनुयायी बन जाता हैं |और फिर सभी एक स्वर में कहते हैं कर भला तो हो भला |

कर भला तो हो भला की कहानी 

Kar Bhala To Ho Bhala Story In Hindi

एक प्रसिद्द राजा था जिसका नाम रामधन था | अपने नाम की ही तरह प्रजा सेवा ही उसका धर्म था | उनकी प्रजा भी उन्हें राजा राम की तरह ही पुजती थी | राजा रामधन सभी की निष्काम भाव से सहायता करते थे फिर चाहे वो उनके राज्य की प्रजा हो या अन्य किसी राज्य की | उनकी ख्याति सर्वत्र थी | उनके दानी स्वभाव और व्यवहार के गुणगान उसके शत्रु राजा तक करते थे | उन राजाओं में एक राजा था भीम सिंह,जिसे राजा रामधन की इस ख्याति से ईर्षा थी | उस ईर्षा के कारण उसने राजा रामधन को हराने की एक रणनीति बनाई और कुछ समय बाद रामधन के राज्य पर हमला कर दिया | भीम सिंह ने छल से युद्ध जीत लिया और रामधन को जंगल में जाना पड़ा | इतना होने पर भी रामधन की लोकप्रियता में कोई कमी नहीं थी | हर जगह उन्ही की बाते चलती थी | जिससे भीम सिंह को चैन न था उसने राजा रामधन को मृत्युदंड देने का फैसला किया |उसने ऐलान किया कि जो राजा रामधन को पकड़ कर उसके सामने लायेगा वो उसे सो सोने की दीनार देगा |

Kar Bhala To Ho Bhala

दूसरी तरफ, राजा रामधन जंगलों में भटक रहे थे | तब उन्हें एक राहगीर मिला और उसने कहा – भाई ! तुम इसी जगह के लगते हो | क्या मुझे राजा रामधन के राज्य की तरफ का रास्ता बता सकते हो ? राजा रामधन ने पूछा – तुम्हे क्या काम हैं राजा से ? तब राहगीर ने कहा – मेरे बेटे की तबियत ठीक नहीं उसके इलाज में सारा धन चला गया | सुना हैं राजा रामधन सभी की मदद करते हैं सोचा उन्ही के पास जाकर याचना करूँ | यह सुनकर राजा रामधन राहगीर को अपने साथ लेकर भीमसिंह के पास पहुँचे | उन्हें देख दरबार में सभी अचंभित थे |

राजा रामधन ने कहा – हे राजन ! आपने मुझे खोजने वाले को सो दीनार देने का वादा किया था | मेरे इस मित्र ने मुझे आपके सामने पैश किया हैं | अतः इसे वो सो दीनार दे दे | यह सुनकर राजा भीम सिंह को अहसास हुआ कि राजा रामधन सच में कितने महान और दानी हैं | और उसने अपनी गलती का स्वीकार किया | साथ राजा रामधन को उनका राज्य लौटा दिया और सदा उनके दिखाये रास्ते पर चलने का फैसला किया | दोस्तों इसी को कहते हैं “कर भला तो हो भला  |

कहाँ एक तरफ भीमसिंह राजा रामधन को मारना चाहता था और अंत में राजा रामधन की करनी देखे वो लज्जित हुआ और उन्हें उनका राज्य लौटा दिया और स्वयं को उनके जैसा बनाने में जुट गया |

महान लोग सही कहते हैं “कर भला तो हो भला”| रामधन की करनी का ही फल था जो वो हारने के बाद भी जीत गया | उसने जिस तरह सभी की मदद की उसकी मदद अंत में उसी के काम आई |

इसलिए कहते हैं मनुष्य को अपने कर्मो का ख्याल करना चाहिये | अगर आप अच्छा करोगे तो अच्छा ही मिलेगा | मानाकि कष्ट होता हैं लेकिन अंत सदैव अच्छा होता हैं |

कर भला तो हो भला यह कहानी आपको कैसी लगी ? ऐसी ही मुहावरों की कहानी अपने बच्चों को सुनाये जिससे उन्हें इन मुहावरों के अर्थ याद रहेंगे और उन्हें इन मुहावरों का सही अर्थ पता चलेगा और वे अपने जीवन में अच्छे मार्ग पर चलने योग्य होंगे |

अगर आप हिंदी की अन्य कहानियों को पढ़ना चाहते है, तो प्रेरणादायक हिंदी कहानी का संग्रह पर क्लिक करें| अगर आप महाभारत व रामायण की कहानी पढ़ना चाहते है, तो क्लिक करें|

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

draupadi-and-indraprastha

महाभारत में द्रोपदी का स्वयंवर | Mahabharat Draupadi Swayamvar In Hindi

Mahabharat Draupadi Swayamvar In Hindi द्रोपदी, हिन्दू पौराणिक कथा महाभारत की एक बहुत ही प्रमुख …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *