ताज़ा खबर

कर्मो का भोग निश्चित हैं

कर्मो का भोग निश्चित हैं , इस  कहानी  जिसमे आपको अहसास होगा कि व्यक्ति कितना भी इतरा ले | उसके कर्म उसे उसकी सही जगह पर ला ही देते हैं और कर्मो का फल जन्म मृत्यु के भी परे हैं जब तक पूरा हिसाब नहीं होता यह फल पीछा नहीं छोड़ते | अब आप ही तय करें आप पाप का भागी बनाना चाहते हैं या सदाचार का |

Karmo Ka Bhog Nishchit Hain

 

कर्मो का भोग निश्चित हैं

एक सिद्ध आचार्य अपने शिष्यों के साथ तीर्थ यात्रा पर निकले | कुछ देर चलने के बाद वे थकान निकालने बीच घने जंगल में ही रुक गये | इतने में आचार्य को कुछ आवाजे सुनाई दी | ध्यान से सुनने पर आचार्य को समझ आया कि यह कुछ लोगो के रोने की आवाज हैं |उन्होंने शिष्यों को बोला- बालको ! सुनो ये  आवाजे कहाँ से आ रही हैं ? तब शिष्य एक दुसरे का मुंह देखने लगे क्यूंकि उन्हें कोई आवाज सुनाई नहीं दे रही थी | फिर भी गुरु के आदेशानुसार उन्होंने थोड़ी दुरी पर आकार देखा |

केवल आचार्य को एक गहरे, अँधेरे कुएँ से कुछ लोगो के रोने की आवाज सुनाई दे रही थी |आचार्य ने कुएँ में झाँक कर देखा तो उन्हें 5 लोग बहुत ही बुरी दशा में रोते हुए दिखाई दिए ,लेकिन शिष्यों को ना आवाज सुनाई दी और ना ही कुछ दिखाई दिया|

तब आचार्य ने उन पाँच लोगो को मुस्कुराते हुए देखा और पूछा – भाई किन कर्मो का भोग रहे हो ? तब वे पाँचों और जोर-जोर से रुदन करने लगे |

तब आचार्य ने शिष्यों को बताया- यहाँ 5 प्रेत आत्मायें हैं | यह सुनकर शिष्य डर गये | तब आचार्य बोले बालको डरों नहीं | तुम सभी इनसे ज्यादा शक्तिमान हो क्यूंकि तुम सब कर्मो से महान हो और ये सभी आज अपनी पिछली करनी का भोग रहे हैं | आज के समय में इनसे दुर्बल कोई नहीं हैं |

तब शिष्य ने पूछा इन्होने ऐसा क्या किया हैं ?

तब पहली आत्मा ने उत्तर दिया कि वह पिछले जन्म में ब्राहमण था | भिक्षा मांगता था लेकिन उस भिक्षा को भोग विलास में खर्च करता था |

दुसरे ने उत्तर दिया वह क्षत्रिय था और अपनी शक्ति का दुरुपयोग निर्बल, असहाय गरीबो पर करता था |

तीसरे ने उत्तर दिया कि वो बनिया था | बस खुद के फायदे की सोचता था और हमेशा मिलावट करके सामान बेचता था | जिस कारण कई लोग मारे गये |

चौथे ने उत्तर दिया वह क्षुद्र था |बहुत आलसी और जिम्मेदारी से भागता था अपने माता-पिता को पिटता था और दिन रात नशा करता था |

पांचवे ने उत्तर दिया वह एक लेखक था | अश्लील कथाये लिखता था उसने समाज को वासना का पाठ सिखाया था |

इस तरह वे सभी पापी अपने पापो को भोग रहे हैं |

उन्होंने आचार्य से निवेदन किया | आप गुरु हैं \आप दुनियाँ वालो को समझायें कि बुराई का रास्ता क्षण की ख़ुशी देता हैं लेकिन इसका दंड कई जन्मो तक अंधकार में भोगना पड़ता हैं |   

Moral

मनुष्य को कर्मो का फल भोगना ही पड़ता हैं फिर वो किसी भी जन्म में हो | कहते हैं जिस तरह ईश्वर हैं वैसे ही भूत भी होते है लेकिन वे जितने दुर्बल होते हैं उतना कोई नहीं | जितने कष्ट में वो होते हैं उतना कोई नहीं वे अपनी करनी का भोग करते हैं | क्षण की विलासिता कई जन्मो का डर बन जाती हैं | व्यक्ति कितना भी इतरा जायें नियति उसके कर्मो का हिसाब रखती ही हैं इसलिए सदैव सद्मार्ग पर चले अगर गलती हुई भी हैं तो उसे सुधारे |

 

अन्य हिंदी कहानियाँ एवम प्रेरणादायक प्रसंग के लिए चेक करे हमारा मास्टर पेज hindi story 

कर्मो का भोग निश्चित हैं, आपको कैसी लगी कमेंट अवश्य करें |

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

draupadi-and-indraprastha

महाभारत में द्रोपदी का स्वयंवर | Mahabharat Draupadi Swayamvar In Hindi

Mahabharat Draupadi Swayamvar In Hindi द्रोपदी, हिन्दू पौराणिक कथा महाभारत की एक बहुत ही प्रमुख …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *