ताज़ा खबर
Home / सेहत / Metabolism Facts In Hindi

Metabolism Facts In Hindi

मेटाबोलिज्म (Metabolism In Hindi): Metabolism एक बायोलोजिकल क्रिया हैं जिसे पाचन तंत्र का अहम् हिस्सा माना जाता हैं इसका मुख्य कार्य भोजन को तोड़कर उर्जा में परिवर्तित करना हैं यही उर्जा मानव शरीर द्वारा रोजाना के कार्यो  में खर्च की जाती हैं |

मेटाबोलिज्म (Metabolism In Hindi ) दो तरह की क्रियाओं से पूर्ण होता हैं जिसमे Catabolism तथा Anabolism आती हैं |

Catabolism : Catabolism में भोजन छोटे छोटे टुकड़ों में टूटता हैं एवम उर्जा देता हैं मुख्यतः इसमें भोजन का प्रोटीन एमिनो एसिड में बदलता हैं और यह एमिनो एसिड glycogen में बदलता हैं जिसे मानव शरीर उर्जा के रूप में इस्तेमाल करता हैं |

Anabolism : Anabolism यह Catabolism से विपरीत क्रिया हैं जिसमे छोटे छोटे कण बड़े टुकडो में बदले जाते हैं जिसमे उर्जा संग्रहित की जाती हैं जो कि मनुष्य शरीर में वसा के रूप में एकत्रित होती हैं यह संग्रहित उर्जा मनुष्य को हर तरह की बीमारी से लड़ने में सहायता देती हैं | परन्तु अगर यह उर्जा आवश्यकता से अधिक मात्रा में हो तो मोटापे का कारण बनती हैं |

Metabolic Rate : सामान्यतः metabolic rate का मतलब हैं रासायनिक उर्जा | जिसे केलोरी से मापा जाता हैं | बच्चो के शरीर में metabolic rate ज्यादा होता हैं इसलिए उनमे फुर्ती अधिक होती हैं साथ ही उन्हें भूख भी बार बार लगती हैं | उम्र बढ़ने के साथ साथ Metabolic Rate कम होता जाता हैं जिसके कारण diet भी कम अर्थात कम भूख महसूस होने लगती हैं |

अगर Metabolic Rate  आवश्यक्ता से कम हैं तो वह मनुष्य शरीर में दुर्बलता या मोटापे का मुख्य कारण बन जाता हैं |

Metabolism in Hindi

MetaBolism को शरीर में संतुलित रखने के मुख्य उपाय :

  1. नियमित योग : दिन भर के कार्यो के अलावा सभी को स्वस्थ्य रहने के लिए नियमित योग अथवा walk को अपनी दिनचर्या का अभिन्न अंग बनाना चाहिए |
  2. खाने सम्बन्धी बदलाव : नाश्ता (breakfast) को अपनी diet में एक जरुरी meal माने | किसी भी डॉक्टर से breakfast के महत्व को जाने | दिन के पहले भोजन में healthy diet ले, यह healthy diet दिन भर की उर्जा का मुख्य स्त्रोत हैं |
  3. साथ ही Metabolism को बढ़ाने के लिए हर दो घंटे में कुछ न कुछ खाये ध्यान रखे खाने वाली वस्तु अधिक तेलीय ना हो |  
  4. फलो एवम juice को अपनी दिनचर्या में शामिल करे |
  5. रात्रि का भोजन (dinner) बहुत लाइट ले |
  6. नींद को कभी अनदेखा ना करे : आज के वक्त में मनुष्य आराम कर ही नहीं पता परन्तु अच्छी नींद लेना बहुत जरुरी हैं अगर नींद पूरी नहीं होती तो शरीर की थकावट बनी रहती हैं जिससे metabolism कम होता हैं जो कि weight में वृद्धि अथवा कमी का मुख्य कारण बनता हैं | नींद भी शरीर के लिए बहुत जरुरी हैं |

Metabolism का मुख्य स्त्रोत केफीन भी हैं जिसके लिए आप अपने daily routine में Green Tea या Black Coffee ले सकते हैं जिससे शरीर में फुर्ती बनी रहती हैं साथ ही weight managment भी सही रहता हैं |

BMR (Basal Metabolic Rate): यह एक दर हैं जो कि शरीर की चयापचय क्रिया का निर्धारण करता हैं अर्थात यह बताता हैं कि मनुष्य के शरीर को कितनी उर्जा की आवश्यकता हैं | मानव शरीर को 24 hrs उर्जा की जरुरत होती हैं दिन के कार्यों में, भोजन पचाने, रक्त संचार में, श्वास लेने अथवा छोड़ने आदि सभी कार्यों में मनुष्य को उर्जा की उचित मात्रा चाहिए जो कि उसे भोजन से प्राप्त होती हैं |मनुष्य को अपने शरीर की बनावट के अनुसार उर्जा की आवश्यक्ता होती हैं और यह उर्जा चयापचय की क्रिया से प्राप्त होती हैं |

BMR भी मनुष्य के शरीर की बनावट के अनुसार मनुष्य में पाया जाता हैं यह मुख्य कारको पर निर्भर करता हैं |

  • आयु (Age): यह एक महत्वपूर्ण कारक हैं क्यूंकि BMR आयु के बढ़ने के साथ- साथ कम होता जाता हैं BMR 20 year की आयु के बाद प्रति दशक 2 % कम होता जाता हैं |
  • बॉडी फेट : मनुष्य के शरीर में जितना ज्यादा वसा होता हैं BMR उतना ही कम होता हैं |
  • कद : शरीर जितना लम्बा होता हैं BMR उतना ही ज्यादा होता हैं
  • शरीर का तापमान : शरीर का तापमान जितना ज्यादा होता हैं BMR उतना अधिक बढ़ता हैं |
  • भोजन की उचित मात्रा : अधिक समय तक भूखा रहने से व्यक्ति के शरीर में BMR की कमी को बढ़ाता हैं |इसे बनाये रखने के लिए प्रति 2 hrs में खाना जरुरी है
  • व्यायाम : शारीरिक व्यायाम से BMR में वृद्धि होती हैं |
  • बाहरी तापमान : ठण्ड के समय मनुष्य का BMR अधिक होता हैं |
  • Gender : Male के शरीर मे मसल्स ज्यादा होती हैं साथ ही female की तुलना में lower body fat कम होता हैं इसलिए उनके शरीर में BMR अधिक मात्रा में होता हैं
  • ग्रंथी : मनुष्य के शरीर में thyroid gland (थाइरोइड ग्रंथी) होती हैं जो कि Thyroxin थाय्रोक्सिन produce करती हैं अगर यह Thyroxin अधिक बनता हैं तो BMR बहुत अधिक होता हैं और Thyroxin की मात्रा कम होती हैं तब BMR भी कम होता हैं | thyroid gland के कम अथवा अधिक Thyroxin produce करने को ही thyroid की बीमारी कहा जाता हैं |

इस तरह BMR शरीर के लिए अति महत्वपूर्ण हैं जो कि age के साथ प्रभावित होता हैं इसलिए सभी को इसका उचित ध्यान रखना जरुरी हैं |

Metabolism Facts In Hindi यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें अवश्य लिखे |

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

यह भी देखे

palak juice

पालक के फायदे व नुकसान | Spinach benefits and side effects in hindi

Spinach (Palak) ke benefits (fayde) and side effects in hindi हरी पत्तेदार सब्जी खाने की …

3 comments

  1. Easy n clear. Thanks 4 this article

  2. V good knowledge given by u.I hope that you will continue it forever to grow up knwledge for every person thanks.

  3. Thanx for great health information

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *