Home इनफार्मेशनल ब्लैक लाइव्स मैटर क्या है Black Lives Matter movement in hindi

ब्लैक लाइव्स मैटर क्या है Black Lives Matter movement in hindi

0

ब्लैक लाइव्स मैटर क्या है आंदोलन 2021 (मुहीम, शुरुवात कब हुई, फाउंडर) ( Black Lives Matter movement in hindi) (Protest, logo, news, campaign, essay, importance, founder)

कोरोना के साथ-साथ ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन ने भी खबरों की सुर्खियों में और लोगों के सोशल मीडिया अकाउंट में जगह बना ली है। यह आंदोलन 25 मई 2020 की एक घटना की वजह से लोगों के बीच मशहूर हो गया है। बहुत से लोग अब तक इस आंदोलन में शामिल हो चुके हैं परंतु काफी ज्यादा लोगों को इस आंदोलन के बारे में जानकारी ही नहीं है। 25 मई 2020 को हुई एक निर्मम हत्या जो अमेरिकन पुलिस अधिकारियों ने की, उसकी वजह से अमेरिका में नस्ल वाद संस्थागत और परंपरागत संस्थान ने आवाज उठाई जो पहली बार नहीं हुआ है। चलिए आपको बता देते हैं ब्लैक लाइव मैटर आंदोलन क्या है और इसका लक्ष्य क्या है?

Black Lives Matter movement

अमेरिका और उत्तरी कोरिया के मध्य विवाद – जानिए क्यूँ है इन दोनों देशों के बीच विवाद का कारण

ब्लैक लाइव्स मैटर (Black Lives Matter in Hindi)

नामब्लैक लाइव्स मैटर
शुरुआत कब हुईसन 2013 में
कहां हुईअमेरिका में
कारणजातिवाद के प्रति भेदभाव के खिलाफ मुहीम
मुहीम के फाउंडरअलिसिया, पत्रिस्सेस, ओपल

ब्लैक लाइव्स मैटर क्या है (What is Black Lives Matter)

ब्लैक लाइव्स मैटर एक तरह का आन्दोलन है जोकि आतंकवाद के खिलाफ शुरू किया गया है. ये आन्दोलन अमेरिका में काले रंग के अफ़्रीकन अमेरिकी के साथ हो रही हिंसा के खिलाफ शुरू हुआ था. आइये जानते हैं यह आन्दोलन कब शुरू हुआ और कैसे यह पूरे विश्व में प्रचलित हो गया है और कौन कौन इसका समर्थन कर रहा है.

ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन की शुरुआत (Black Lives Matter Movement Start)

ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन की शुरुआत सन 2013 में हुई थी, जब जॉर्ज फ्लाइड की अमेरिकन पुलिस अधिकारीयों के द्वारा हत्या कर दी गई थी. जिसके बाद देश के सभी काले रंग के अफ्रीकी अमेरिकन नागरिकों ने यह आन्दोलन शुरू कर दिया था. ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन केवल अमेरिका में ही नहीं बल्कि अमेरिका के बाहर यूरोप लैटिन अमेरिका के साथ साथ ब्रिटेन में भी लगभग साल 2013 से चल रहा है। क्योंकि इन सब देशों में गोरे और काले लोगों के बीच रंगभेद चलता रहता है जिसमें गोरे लोगों को दबाया जाता है और छोटी सी गलती होने पर ही उन्हें बेवजह मार दिया जाता है। इस निर्मम अपराध को रोकने और विरोध करने के लिए ही काले लोगों द्वारा ब्लैक लाइंस मैटर आंदोलन का प्रारंभ किया गया जो अब वर्तमान में भी चल रहा है।

अमेरिका के राष्ट्रपति का चुनाव कैसे होता है : जानिए विस्तार से अमेरिका में चुनाव कैसे और कितने चरणों में होता है.

जॉर्ज फ्लाइड कौन था (Who is George Floyd)

जॉर्ज फ्लाइड अमेरिका का एक अश्वेत नागरिक था, जोकि अफ़्रीकी अमेरिकन कहलाता है. उसे अमेरिकन पुलिस द्वारा इस आरोप में मार दिया गया था कि उसने 20 डॉलर तक के नकली नोट से खरीदारी की है.

जॉर्ज फ्लाइड के साथ क्या हुआ (George Floyd News)

जानकारी के अनुसार यह बताया जा रहा है कि जॉर्ज फ्लाइड रंग से काला जरूर था परंतु उसने कोई भी अपराध नहीं किया था फिर भी अमेरिकन पुलिस अधिकारियों ने उसकी निर्मम हत्या कर दी। दरअसल यह दुर्घटना 25 मई के दिन हुई जब जॉर्ज फ्लाइट एक पास की ही दुकान पर बिस्किट लेने पहुंचा वहां पर उसने दुकानदार को $20 देकर बिस्किट खरीदा। उस दुकानदार ने जॉर्ज को बिस्किट दे दिया परंतु बाद में उसे लगा कि जॉर्ज द्वारा दिए गए $20 नकली हैं जिसके चलते उन्होंने जोर से कहा कि अपने पैसे वापस ले और मुझे बिस्किट का पैकेट वापस दे दे। लेकिन जॉर्ज बिस्किट का पैकेट लेकर वहां से चला गया और बगल की दुकान में जाकर बैठ कर बिस्किट खाने लगा। वह अपने दोस्तों के साथ वहां पर बैठा हुआ था तभी दुकानदार ने पुलिस को फोन करके जानकारी दी कि यहां पर एक आदमी है जिसने नकली डॉलर देकर मुझसे बिस्किट ले लिया है। अमेरिका की पुलिस के बारे में तो आप जानते ही हैं कि वे एक छोटी सी बात को लेकर कितनी जल्दी तीव्रता से उस स्थान पर पहुंच जाते हैं और अपराधी को पकड़ लेते हैं। ठीक ऐसा ही जॉर्ज को गिरफ्तार करते समय हुआ, तुरंत अमेरिकन पुलिस वहां पर पहुंच गई और उन्होंने जॉर्ज को गिरफ्तार कर लिया।

प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प की जीवनी : इनके जीवन से जुड़े रोचक बातो को जाने

जॉर्ज फ्लाइड की हत्या (George Floyd Death Police Officers)

पुलिस जॉर्ज को पुलिस गाड़ी में बैठाने लगी परंतु खींचातानी में जॉर्ज जमीन पर गिर गया। उसने पुलिस अधिकारियों से कहा कि बंद कमरे में मेरा दम घुटता है कृपा करके मुझे गाड़ी में ना बिठाए। परंतु पुलिस अधिकारियों ने नहीं सुना तभी वहां पर तीसरा पुलिस अधिकारी आया और उसने जॉर्ज को अपने घुटने के नीचे दबा लिया। लगभग 9 मिनट तक उस पुलिस अधिकारियों ने जॉर्ज की गर्दन को अपने घुटने के नीचे दबाए रखा। यह पूरी वारदात लोग कैमरे में कैप्चर कर रहे थे। 9 मिनट बाद जब पुलिस ने अपना पैर जॉर्ज की गर्दन से हटाया तो देखा जॉर्ज मर चुका था क्योंकि उसका दम घुट गया था और वह वहीं पर मर गया।

विरोध प्रदर्शन (Protest)

यह दुर्घटना सोशल मीडिया पर धीरे-धीरे वायरल होने लगी और अमेरिका के लोगों ने इस दुर्घटना के विरोध में प्रदर्शन करना भी प्रारंभ कर दिया। धीरे-धीरे यह प्रदर्शन अमेरिका के पूरे हिस्से में फैल गया और अमेरिका से होता हुआ यह दुनिया के बहुत सारे देशों में पहुंच गया।

मई 2020 की घटना

दरअसल 25 मई 2020 को अमेरिकन पुलिस अधिकारियों ने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर रंग से काले व्यक्ति की बेवजह ही निर्मम हत्या कर दी। यह पूरी घटना बीच रोड पर अंजाम दी गई जिसे बहुत से लोगों ने अपने कैमरे में कैद भी कर लिया। पुलिस द्वारा मारे गए उस व्यक्ति का नाम जॉर्ज फ्लाइड था। अमेरिका में यह पहली बार नहीं हुआ था क्योंकि पहले 20 साल 2014 के अगस्त में पुलिस अधिकारियों द्वारा माइकल ब्राउन नामक अफ्रीकी अमेरिकन की हत्या कर दी गई थी। इससे पहले भी गोरे और काले के रंगभेद के चलते बहुत सारी हत्याएं इस प्रकार की जा चुकी है। 25 मई को हुए इस हादसे के बाद सोशल मीडिया पर अमेरिकी लोगों ने इस कैंपेन का प्रारंभ कर दिया।

ब्लैक लाइव्स मैटर पर खिलाड़ियों का समर्थन (Black Lives Matter Cricket)

सन 2013 की इस घटना के बाद से अब तक में विभिन्न देशों के लोगों द्वारा अमेरिका के अश्वेत लोगों के साथ हो रहे दुर्व्यवहार के खिलाफ चल रहे आन्दोलन का समर्थन किया जा रहा है. आपको बता दें कि हालही में आईसीसी टी – 20 वर्ल्डकप 2021 का आयोजन दुबई में हो रहा है. यहाँ पर 24 अक्टूबर को भारत और पाकिस्तान का मैच हुआ जिसमें मैच से पहले भारतीय टीम द्वारा ब्लैक लाइव्स मैटर आन्दोलन का समर्थन करते हुए सभी भारतीय खिलाडियों ने अपने घुटने टेक दिए, वाही पाकिस्तानी टीम द्वारा अपने दिल पैर हाथ रखकर इसका समर्थन किया गया. इस आन्दोलन को टेक अ नी मुहीम नाम भी दिया गया है. इस खबर ने पूरे विश्व में सुर्खियाँ बटोरी है.

अतः लोगों का कहना है कि गोरे काले के रंगभेद की वजह से पुलिस अधिकारियों ने ऐसा किया और यह सदियों से होता आया है और अब भी अधिकारी ऐसा ही करते हैं। इसी विरोध के प्रदर्शन के चलते सोशल मीडिया पर ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन चल रहा है।

FAQ

Q: ब्लैक लाइव मैटर आन्दोलन की शुरुवात कहाँ से हुई थी?

Ans: अमेरिका

Q: ब्लैक लाइव मैटर आन्दोलन की शुरुवात सबसे कब हुई थी?

Ans: 13 जुलाई 2013

Q: ब्लैक लाइव मैटर आन्दोलन क्या है?

Ans: अमेरिका में कुछ पुलिस अधिकारीयों ने बिना वजह एक काले रंग के व्यक्ति को मार मार कर हत्या कर दी थी, जिसके बाद लोगों ने पुलिस के खिलाफ आन्दोलन छेड़ दिया था.

Q: ब्लैक लाइव मैटर आन्दोलन में किस व्यक्ति की हत्या हुई थी?

Ans: जॉर्ज फ्लाइड नामक अफ्रीकी अमेरिकन

Q: ब्लैक लाइव मैटर मुहीम के फाउंडर कौन है?

Ans: अलिसिया, पत्रिस्सेस, ओपल

अन्य पढ़ें

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here