नेशनल डॉक्टर्स डे 2021 इतिहास,निबंध, नारे व अनमोल वचन | National Doctors Day History, Slogans, Quotes In Hindi

नेशनल डॉक्टर्स डे 2021 का इतिहास,नारे, अनमोल वचन , विषय , निबंध (National Doctors Day History Slogans, Quotes, Themes In Hindi)

दुनिया में डॉक्टर्स को बहुत सम्मान दिया जाता है, जिसमें भारत में तो उन्हें पूजा जाता है. वैसे इन्सान इस काबिल नहीं कि उसकी तुलना भगवान से की जाये, लेकिन डॉक्टर ने अपने काम से ये दर्जा हासिल कर लिया है. वैसे तो जीवन मृत्यु इन्सान नहीं भगवान के हाथ में ही होती है, लेकिन अब भगवान ने इन्सान को डॉक्टर बनाकर उसे  भी जीवन देने का हक दे दिया है. इस जीवन दानी को हम डॉक्टर कहते है, जो हमें जन्म देता है, साथ ही कई बार मृत्यु से भी बचाता है. चिकित्सा के क्षेत्र में डोक्टरों ने दिन पे दिन तरक्की ही की है. आज बड़े से बड़ी बीमारी को डॉक्टर ठीक कर सकता है. विज्ञान के चमत्कारों  की मदद से आज डॉक्टर यहाँ तक पहुँच पायें है.

डॉक्टर के समर्पण, कार्य के प्रति, निष्ठा, ईमानदारी, लगन को सम्मान देने के लिए और उन्हें सलाम करने के लिए  जश्न मनाया जाता है. इस दिन के बारे में पूरी जानकारी एवं इसका इतिहास क्या है यह जानने के लिए इस लेख पर नजर डालें.   

national doctors day

राष्ट्रीय डॉक्टर्स डे [चिकित्सक दिवस]

नामराष्ट्रीय डॉक्टर्स डे [चिकित्सक दिवस]
चिकित्सक दिवस कब मनाया जाता है1 जुलाई
मनाने का तरीकाप्रति वर्ष
कौन मनाता हैं ?भारत, क्यूबा, अमेरिका, वियतनाम, ब्राज़ील, नेपाल, ईरान आदि
पहली बार कब मनाया गया ?30 मार्च 1933
पहली बार किसने मनाया ?जार्जिया [यूएस]

डॉक्टर्स डे कब और कहाँ मनाया जाता है (When and Where Doctors Day is Celebrated) 

डॉक्टर्स डे भारत के साथ – साथ कुछ अन्य देशों में भी मनाया जाता है. यह दिवस कब और कहाँ मनाया जाता है यह नीचे दर्शाया गया है –

भारत :-

हमारे देश में 1 जुलाई को मनाया जाता है, जोकि यहाँ के एक महान चिकित्सक की जन्म तिथि के साथ – साथ उनकी मृत्यु की तिथि भी है. उनका नाम डॉ बिधान चंद्र रॉय था.   

ब्राज़ील :-

यहाँ 18 अक्टूबर को छुट्टी के रूप में राष्ट्रीय डॉक्टर्स डे मनाया जाता है, यह कैथोलिक चर्च सेंट ल्यूक का जन्मदिवस है. जोकि वहां के एक महान डॉक्टर थे.

क्यूबा :-

यहाँ कार्लोस जुआन फिनले के जन्मदिन मनाने के लिए 3 दिसंबर को राष्ट्रीय डॉक्टर्स डे छुट्टी के रूप में मनाया जाता है. ये क्यूबा के चिकित्सक और वैज्ञानिक थे जिन्होंने पीले बुखार का शोध किया था, और इसके लिए वे पहचाने गये थे.

ईरान :-

ईरान में इस दिन को 23 अगस्त के दिन मनाया जाता है जोकि वहां के महान डॉक्टर एविसेना का जन्मदिवस था.

अमेरिका :-

अमेरिका में यह 30 मार्च को मनाया जाता है, जोकि वह दिन है जिस दिन चिकित्सकों की सेवा को सालाना मान्यता प्राप्त होती है. इस दिन को मनाने का विचार डॉ चार्ल्स बी. आलमंड एवं उनकी पत्नी यूडोरा ब्राउन आलमंड को आया था. और यह दिन सर्जरी में सामान्य एनेस्थीसिया के उपयोग की पहली सालगिरह थी. दरअसल 30 मार्च सन 1942 को जेफरसन, जॉर्जिया में डॉ क्रावफोर्ड लॉन्ग ने जेम्स वेनेबल नामक एक मरीज को बेहोश करने के लिए ईथर का उपयोग किया. और बिना दर्द के उनकी गर्दन से ट्यूमर निकाला.

वियतनाम :-

यहाँ 28 फरवरी सन 1955 को डॉक्टर्स डे की स्थापना की. तब से यह इस तारीख को या इसके आसपास की तारीख को मनाया जाता है.

नेपाल :-

नेपाल देश में भी 4 मार्च के दिन डॉक्टर्स डे मनाया जाता है. नेपाल मेडिकल एसोसिएशन की स्थपना के बाद, नेपाल ने हर साल इस दिन को आयोजन किया. इस दिन डॉक्टर – रोगी संचार, क्लिनिकल इलाज और समुदाय आधारित स्वास्थ्य प्रचार पर देखभाल के बारे में चर्चा की जाती है.

डॉक्टर्स डे इतिहास (Doctors Day History)

चूँकि अलग – अलग देशों में यह अलग – अलग दिन मनाया जाता है, इसलिए इस दिन को मनाने का इतिहास भी हर देश का अपना है. यहाँ हम भारत में डॉक्टर्स डे से जुड़े इतिहास के बारे में बात करने जा रहे हैं.

भारत में डॉक्टर्स डे की शुरुआत सन 1991 में तत्कालिक भारत सरकार द्वारा की गई. तब से हर साल जुलाई की पहली तारीख राष्ट्रीय डॉक्टर्स डे के रूप में पहचाने जाने और मनाये जाने के लिए स्थापित है. इस दिन को पूरे भारत में पौराणिक चिकित्सक और पश्चिम बंगाल के दुसरे मुख्यमंत्री का सम्मान करने एवं उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए सुनिश्चित किया गया, जिनका नाम डॉ बिधान चंद्र रॉय था. इनका जन्म 1 जुलाई 1882 को बिहार के पटना शहर में हुआ था, और इसी दिन 80 साल बाद इनकी मृत्यु हो गई. उन्होंने कलकत्ता से अपना मेडिकल स्नातक पूरा कर सन 1911 में लंदन में एमआरसीपी और एफआरसीपी डिग्री हासिल की और भारत वापस आकर उसी वर्ष उन्होंने भारत में एक चिकित्सक के रूप में अपना मेडिकल करियर शुरू किया. वे देश के एक प्रसिद्ध चिकित्सक और प्रसिद्ध शिक्षाविद के साथ – साथ स्वतंत्रता सेनानी भी थे, क्योकि उन्होंने महात्मा गाँधी के द्वारा किये गये आंदोलनों में हिस्सा लिया था, और उनके द्वारा किये गये अनशन में उनकी देखभाल भी की थी. आजादी के बाद वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के नेता बने और फिर बाद में वे पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री बने. इन्हें फरवरी, सन 1961 में भारत रत्न पुरस्कार से नवाजा गया था. इसके अलवा इनकी मृत्यु के बाद सन 1976 में इन्हें याद करने के लिए डॉ बी सी रॉय राष्ट्रीय पुरस्कार की स्थापना की गई. यह पुरस्कार उन्हें सम्मान और  श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए था. अतः ऐसे महान व्यक्तित्व को सम्मान देने और याद करने के लिए ही डॉक्टर्स डे की शुरुआत की गई.        

उद्देश्य (Objectives)

कोई भी व्यक्ति हो हर किसी के जीवन में एक डॉक्टर अहम भूमिका निभाता है. जहाँ एक तरफ लोगों के लिए डॉक्टर महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, और दूसरी तरफ डॉक्टर्स भी अपने मरीजों के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को पूरा करते हैं. ऐसे में उनका सम्मान हमारे लिए गर्व की बात होनी चाहिए. इसी उद्देश्य से भारत सरकार ने इसे एक जागरूकता अभियान के रूप में शुरू किया है, जोकि एक वार्षिक उत्सव है और यह आम लोगों को डॉक्टर्स की भूमिका, महत्व एवं उनके द्वारा की गई अनमोल देखभाल के बारे में जागरूक होने में मदद करता है. डॉक्टर्स का यह वार्षिक उत्सव सभी डॉक्टर्स एवं चिकित्सकों के लिए प्रोत्साहन का दिन होता है. यह दिन  उन डॉक्टर्स की आंख खोलने का दिन है, जो अपने प्रोफेशन के प्रति ईमानदार नहीं है. इस दिन को मनाने से वे अपने पेशे की ओर प्रतिबद्धता की कमी के कारण अपने असफल करियर से उठने के लिए जागृत हुए हैं. 

कभी – कभी आम और गरीब लोग, गैर जिम्मेदार और गैर – व्यावसायिक डॉक्टर्स के गलत साथ में फंस जाते हैं जो उन डॉक्टर्स के खिलाफ सार्वजनिक हिंसा और विरोध का कारण बन जाता है. यह जागरूकता अभियान सभी डॉक्टर्स को एक ही स्थान पर आकर्षित करने का एक शानदार तरीका है, इससे उन्हें जीवन रक्षा मेडिकल प्रोफेशन की दिशा में जिम्मेदारी के एक ट्रैक में लाया जा सकता है. यह दिन का उत्सव पूरे प्रोफेशनल डॉक्टर्स जिन्होंने रोगियों के जीवन को बचाने के लिए अपने महान प्रयास किये हैं. उनका सम्मान करने  एवं विशेष रूप से उनके प्रयासों और भूमिकाओं का जश्न मनाने के लिए समर्पित किया गया है. यह उनके दिन, उनके प्यार, स्नेह और उनके रोगियों की अनमोल देखभाल के लिए धन्यवाद देने का एक दिन है. इसलिए इस दिन को एक उत्सव के रूप में मनाया जाता है.        

डॉक्टर्स डे 2021 (Doctors Day 2021)

साल 2021 में 31 वां राष्ट्रीय डॉक्टर्स डे 1 जुलाई को मनाया जायेगा. इस दिन देश के सभी डॉक्टर्स एवं चिकित्सकों को सम्मान देते हुए उनके द्वारा किये गए कार्य के लिए उनका धन्यवाद किया जायेगा.    

कैसे मनाया जाता है ? (How to Celebrate ?)

इस दिन को लोग अपने – अपने तरीके से मनाते हैं. किन्तु कुछ संगठनों द्वारा इसे निम्न तरीके से मनाया जाता है –

  • डॉक्टर्स द्वारा दिए गये योगदान से परिचित होने के लिए सरकारी और निजी स्वास्थ्य संगठनों में विभिन्न तरह के कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं. इसे विशेष रूप से ‘उत्तरी कोलकाता एवं उत्तर – पूर्वी कोलकाता सामाजिक एवं कल्याण संगठन के रोटरी क्लब’ द्वारा मनाया जाता है, जोकि डॉक्टर्स डे के इस भव्य उत्सव के लिए हर साल एक बड़ा इवेंट आयोजित करता है.
  • इस दिन चिकित्सा प्रोफेशन के विभिन्न पहलूओं जैसे स्वास्थ्य जाँच, इलाज, रोकथाम, रोग का उचित उपचार आदि इसी तरह के कई मुद्दों के बारे में चर्चाएँ करने के लिए कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं.
  • इस दिन हेल्थ केयर संगठनों द्वारा कई स्वास्थ्य केन्द्रों और सार्वजनिक स्थानों पर आम जनता के लिए कुछ चिकित्सा जाँच शिविर आयोजित किये जाते हैं, जोकि बिलकुल मुफ्त होते हैं.
  • इसके अलावा इस दिन गरीबों एवं वरिष्ठ नागरिकों के बीच हेल्थ स्टेटस, हेल्थ काउंसलिंग, हेल्थ पोषण पर बातचीत और पुरानी बीमारियों की जागरूकता का आंकलन करने के लिए जनरल स्क्रीनिंग टेस्ट शिविर भी आयोजित किये जाते हैं.
  • हर किसी के जीवन में डॉक्टर्स की महत्वपूर्ण भूमिकाओं के बारे में जागरूक करने के लिए मुफ्त में ब्लड टेस्ट, रैंडम शुगर टेस्ट, ईसीजी, ईईजी, ब्लड प्रेशर चेकअप आदि गतिविधियों का आयोजन किया जाता है.
  • अधिक युवा छात्रों को डेडिकेटेड मेडिकल प्रोफेशन की तरफ प्रोत्साहित करने के लिए स्कूलों और कॉलेजों के स्तर पर कुछ गतिविधियां आयोजित की जाती है, जोकि मेडिकल टॉपिक्स पर चर्चा, क्विज प्रतियोगिता, खेल गतिविधियाँ, मेडिकल प्रोफेशन को मजबूत और अधिक जिम्मेदार बनाने के लिए नई और प्रभावी शैक्षिक रणनीतियां लागू करना एवं क्रिएटिव ज्ञान के लिए छात्रों को वैज्ञानिक उपकरण का लाभ पहुंचाना आदि है.
  • जुलाई की 1 तरीख को अधिकतर मरीज अपने डॉक्टर्स को धन्यवाद करते हुए उन्हें ग्रीटिंग कार्ड्स, प्रशंसा कार्ड, ईकार्ड्स, फूलों के गुलदस्ते, मेल के माध्यम से ग्रीटिंग मेसेज आदि देते हैं. स्वास्थ्य केन्द्रों, अस्पतालों, नर्सिंग होम या डॉक्टर्स द्वारा घरों पर विशेष मीटिंग, पार्टी एवं डिनर का आयोजन किया जाता है, ताकि मेडिकल प्रोफेशन के लिए डॉक्टर्स के दिन और उनके योगदान के महत्व को याद किया जा सके.         

इस तरह से इस विशेष दिन को अलग – अलग तरह के आयोजन कर मनाया जाता है.

विषय (Themes)

हर साल राष्ट्रीय डॉक्टर्स डे मनाने के लिए एक विषय की घोषणा की जाती है. फिर वह दिन उस विषय के अनुसार मनाया जाता है, और विषय को ध्यान में रखा जाता है. वर्ष 2019 के लिए राष्ट्रीय डॉक्टर्स डे के विषय की घोषणा अब तक नहीं की गई हैं. जैसे ही इसकी घोषणा की जाएगी हम आपको अपडेट कर देंगे.

नेशनल डॉक्टर्स डे नारे (World Doctors Day Slogans)

राष्ट्रीय एवं विश्व डॉक्टर्स डे से जुड़े हुए कुछ नारे इस प्रकार हैं –

  • एक अच्छा डॉक्टर एक लंबे पर्चे की बजाएं लंबी सलाह देता है.
  • बीमारी का निदान अंत नहीं है बल्कि अभ्यास की शुरुआत है.
  • वह व्यक्ति डॉक्टर नहीं हो सकता, जो खुद ही बीमार हो.
  • अपने डॉक्टर से कभी झूठ नहीं बोलना चाहिये, आप अपने डॉक्टर से आपकी बीमारी से जुड़ी कोई भी बात मत छिपाओ.
  • संसार में डॉक्टर ही हैं जिसे मनुष्य आस भरी नजरो से देखता है, जैसे वो एक भगवान से दुआ कर रहा हो 

नेशनल डॉक्टर्स दिवस सुविचार व अनमोल वचन (World Doctors Day Quotes)

डॉक्टर्स दिवस पर कुछ सुविचार इस प्रकार है –

  • जब आप एक बीमारी का इलाज करते है, तो पहले मन का इलाज करते है.
  • स्वास्थ्य लाभ में दवायें हमेशा जरुरी नहीं होती है, इसके लिए विश्वास भी जरुरी होता है.
  • निदान (Diagnosis) अंत नही है, लेकिन अभ्यास की शुरुआत है.
  • अक्सर डॉक्टर ने बीमारियों में अधिक आशंका जताई है.
  • दवाओं में संदेह, बीमारियों के रूप में भय पैदा करता है.
  • जब एक बीमारी के लिए बहुत से उपचार का सुझाव दिया जाता है तो इसका मतलब यह है कि उसे ठीक नहीं किया जा सकता है.
  • इलाज के उद्देश्य के लिए शरीर और आत्मा अलग – अलग नहीं हो सकती है, वे एक और अकेले है. “बीमार शरीर के रूप में मन को ठीक किया जाना चाहिए”.  
  • दवाओं के बारे में सबसे खराब बात यह है कि एक प्रकार की दवा एक के अलावा अन्य और जरुरतें बनाती है.
  • एक आदमी की उसकी बीमारी के खिलाफ इच्छा को बनाये रखना दवा की सबसे उत्तम कला है.
  • रोग कक्ष में, मनुष्य समझ की कीमत 10 सिक्के और चिकित्सा विज्ञान की कीमत 10 डॉलर के बराबर है.
  • दवाओं की कला में रोगी का मनोरंजन होता है जबकि प्रक्रति बीमारी को दूर कर देती है.
  • डॉक्टर अपने मरीजों के लिए अपारदर्शी (Opaque) और दर्पण (Mirror) की तरह होना चाहिए, लेकिन उसे क्या दिखाया गया है यह उन्हें कभी भी नहीं दिखाना चाहिए.
  • चिकित्सा, कभी – कभी स्वास्थ्य छीन लेती है और कभी – कभी स्वस्थ कर देती है.
  • एक चिकित्सक, एक रोग वाले अंग की तुलना में अधिक विचार करने के लिए बाध्य है, यहाँ तक कि पुरे आदमी की तुलना में और अधिक है – उसे अपनी दुनिया में उस आदमी को ही देखना चाहिए.
  • नर्स भी एक डॉक्टर के पर्चे के बिना सुविधा, सहानुभूति और देखभाल नहीं दे सकती.
  • एक अच्छा चिकित्सक बीमारी का इलाज करता है, जबकि एक महान चिकित्सक उस मरीज का इलाज करता है जोकि बीमार है.
  • केवल चिकित्सा की कला ही खुद का नाम बनाने के लिए सक्षम होती है, और उसी समय दूसरों को लाभ भी देती है.
  • जीवन केवल एक होता है दूसरों के लिए यह जीवन उपयुक्त है.
  • एक सच्चे डॉक्टर के निशान अस्पष्ट है.
  • वे बहुत अच्छे चिकित्सक है जो आशा के लिए सबसे सरल प्रेरक है.
  • जहाँ कहीं भी दवा की कला को प्यार किया जाता है, वहाँ मानवता को भी प्यार किया जाता है.
  • जब हम अपने सारी उम्मीदें खो देते है तब हमारे जीवन में स्वास्थ्य लाने के लिए और वहाँ हमारा साथ देने के लिए केवल डॉक्टर के पास ही उस जीवन के इलाज के लिए जादुई शक्ति होती है.
  • जब हम रोते है तब हमें कन्धों की जरुरत होती है, जब हम दर्द में होते है तब हमें दवाओं की जरुरत होती है, लेकिन जब हम त्रासदी में होते है तब हमें डॉक्टर की उनकी आशाओं की जरुरत होती है.
  • एक डॉक्टर, देखने के लिए आँख और मानव जाति में कमज़ोरी के लिए इलाज प्रदान करता है. वह एक है जो हमें उम्मीद दे सकता है जब हम कष्ट में हों.
  • सबसे अच्छा डॉक्टर एक ही है जिसके लिए आप दौड़ते हैं और आप ढूंढ नहीं सकते.
  • एक डॉक्टर अपनी गलतीयों को छिपा सकता है लेकिन एक कलाकार अपने ग्राहकों को पौधे की लताओं की सलाह दे सकता है.
  • मैं एक सदाचारी की पुकार के लिए नहीं आया हूँ लेकिन एक गुनहगार के पश्चताप के लिए आया हूँ.
  • आदमी को स्वस्थ कर देने की तुलना में भगवान के करीब जाने वाले रास्ते में आदमी ज्यादा कुछ भी नहीं कर पाता है.   

कार्यक्रम (Events)

डॉक्टर्स डे के दिन विभिन्न चिकित्सा केंद्रों, स्कूलों और कॉलेजों में कई कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है. सन 2019 में भी कई सारे कार्यक्रमों के आयोजन किये जायेंगे, जिसकी जानकारी हम जल्द ही आप तक पहुंचाएंगे. 

इस तरह से यह दिन उन डॉक्टर्स का दिन होता है जोकि मानव जीवन की रक्षा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. इनका सम्मान करना हमारा कर्तव्य होना चाहिए.

2021 का डॉक्टर्स डे है बहुत ख़ास  

हम सभी जानते हैं की भारत में Covid19 की मार 2020 से शुरू हुई, उस समय भारत के सभी नागरिक अपने घर में थे लेकिन डॉक्टर्स, नर्स और सफाईकर्मी उस काल में भी अपना कार्य कर रहे थे. ऐसे में अपनी जान दाव पर लगाकर हमारे लिए इतना कुछ करने वाले डॉक्टर्स के लिए 2021 का डॉक्टर्स डे काफी ख़ास होने वाला है. हमें उम्मीद है की सरकार डॉक्टर्स के लिए बहुत कुछ ख़ास करने वाली है.

अन्य पढ़े:

Vibhuti
विभूति अग्रवाल मध्यप्रदेश के छोटे से शहर से है. ये पोस्ट ग्रेजुएट है, जिनको डांस, कुकिंग, घुमने एवम लिखने का शौक है. लिखने की कला को इन्होने अपना प्रोफेशन बनाया और घर बैठे काम करना शुरू किया. ये ज्यादातर कुकिंग, मोटिवेशनल कहानी, करंट अफेयर्स, फेमस लोगों के बारे में लिखती है.

More on Deepawali

Similar articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here