महाभारत में द्रोपदी का स्वयंवर | Mahabharat Draupadi Swayamvar In Hindi

Mahabharat Draupadi Swayamvar In Hindi द्रोपदी, हिन्दू पौराणिक कथा महाभारत की एक बहुत ही प्रमुख पात्र हैं. महाभारत की कथा के अनुसार द्रोपदी का जन्म क्षत्रियों के संहार और कौरवों के विनाश के लिए हुआ था. द्रोपदी, पंचाल के राजा द्रुपद की पुत्री थी, जिनका जन्म अग्निकुण्ड से हुआ. द्रोपदी बहुत ही सुन्दर राजकुमारी थी. इनके पिता राजा द्रुपद अपनी पुत्री का विवाह अर्जुन से कराना चाहते थे, किन्तु उस समय उन्हें यह समाचार प्राप्त हुआ था, कि पांडवों की मृत्यु हो चुकी है. राजा द्रुपद अपनी पुत्री के लिए एक महान पराक्रमी वर चाहते थे इसलिए उन्होंने द्रोपदी के स्वयंवर का आयोजन किया और उसमें एक शर्त भी रखी.

draupadi-and-indraprastha

महाभारत में द्रोपदी का स्वयंवर

Mahabharat Draupadi Swayamvar In Hindi

द्रोपदी का परिचय (Draupadi introduction) –

द्रोपदी का परिचय निम्न तालिका में दर्शाया गया है-

क्र.म.        परिचय बिंदु            परिचय
1. नाम द्रोपदी
2. अन्य नाम पांचाली, कृष्णा, यज्ञसेनी, दृपदकन्या, सैरंध्री, महाभारती, पर्षती, नित्ययुवनी, मालिनी एवं योजनगंधा
3. जन्म स्थल पांचाल
4. पिता पांचाल नरेश द्रुपद
5. माता प्रस्हती
6. पति युधिष्ठिर, भीम, अर्जुन, नकुल एवं सहदेव
7. पुत्र प्रतिविन्ध्य, सुतासोमा, स्रुताकर्मा, सतानिका, स्रुतासेना
8. भाई धृष्टद्युमन
9. बहन शिखंडी
10. राजवंश कुरुवंश

द्रोपदी, पांचाल के राजा द्रुपद की पुत्री थी, जोकि यज्ञकुंड से जन्मी थी. इसलिए इनका नाम यज्ञसेनी भी था. पांचाल के राजा द्रुपद और गुरु द्रोणाचार्य बहुत ही अच्छे मित्र थे, किन्तु किसी वजह से उनमें शत्रुता हो गई. गुरु द्रोणाचार्य से बदला लेने के लिए राजा द्रुपद ने एक यज्ञ का आयोजन किया. उस यज्ञकुंड से उन्हें एक पुत्र की प्राप्ति हुई. उसी समय उसी यज्ञकुंड में से एक कन्या उत्पन्न हुई जोकि बहुत सुंदर थी. चूँकि वह उसी यज्ञकुंड से उत्पन्न हुई थी इसलिए वह राजा द्रुपद की ही पुत्री कहलाई. जिस समय वह कन्या उत्पन्न हुई तब आकाशवाणी हुई थी कि इस कन्या का जन्म क्षत्रियों के संहार एवं कौरवों के विनाश के लिए हुआ है. राजा द्रुपद ने अपने पुत्र का नाम धृष्टद्युम्न तथा पुत्री का नाम द्रोपदी रखा. द्रोपदी बहुत ही रूपवान थी. किन्तु इनका रंग श्यामल था इसलिए इन्हें कृष्णा भी कहा जाता है.

द्रोपदी पिछले जन्म में किसी ऋषि की पुत्री थी एवं सर्वगुण संपन्न पति की इच्छा से उन्होंने तपस्या कर भगवान शिव को प्रसन्न किया था. द्रोपदी ने भगवान शिव से ऐसे पति की कामना की जिनमें पांच गुण हों, जिस वजह से भगवान शिव ने उन्हें यह वरदान दिया था कि अगले जन्म में उन्हें 5 पतियों की प्राप्ति होगी और हर एक पति में एक गुण होगा. द्रोपदी पांचाल राज्य की राजकुमारी थी इसलिए इन्हें पांचाली भी कहा जाता है. इसके अलावा द्रोपदी को दृपदकन्या, सैरंध्री, पर्षती, महाभारती, नित्ययुवनी, मालिनी एवं योजनगंधा भी कहा जाता है. द्रोपदी के स्वयंवर को पांडू पुत्र अर्जुन ने जीता किन्तु माता कुंती के आदेश के कारण वे पाँचों पांडवों की पत्नी कहलाई. द्रोपदी को पाँचों पांडवों से एक – एक पुत्र की प्राप्ति हुई. जोकि प्रतिविन्ध्य, सुतासोमा, स्रुताकर्मा, सतानिका, स्रुतासेना थे. किन्तु महाभारत के युद्ध के दौरान उन सभी पुत्रों की मृत्यु हो जाती है.

द्रोपदी का स्वयंवर

पांचाल के राजा द्रुपद अपनी पुत्री द्रोपदी का विवाह एक महान पराक्रमी राजकुमार से कराना चाहते थे. पांडू पुत्र अर्जुन सर्वश्रेठ धनुर्धारी थे और राजा द्रुपद अपनी पुत्री का विवाह उन्ही से कराना चाहते थे, किन्तु उन्हें यह खबर मिली कि पांडू पुत्रों की मृत्यु हो चुकी है. उन्होंने सोचा की वे द्रोपदी के लिए योग्य वर की तलाश कैसे करेंगे. फिर उन्होंने इसके लिए पांचाल कोर्ट में ही द्रोपदी के स्वयंवर का आयोजन किया और उसकी एक शर्त भी रखी. कोर्ट के केंद्र में एक खंबा खड़ा किया हुआ था, जिस पर एक गोल चक्र लगा हुआ था. उस गोल चक्र में एक लकड़ी की मछली फंसी हुई थी जोकि एक तीव्र वेग से घूम रही थी. उस खम्बे के नीचे पानी से भरा हुआ पात्र रखा था. धनुष बाण की मदद से उस पानी से भरे पात्र में मछली का प्रतिबिम्ब देखकर उसकी आँख में निशाना लगाना था. उन्होंने कहा कि जो भी राजकुमार मछली पर सही निशाना लगेगा उसका विवाह द्रोपदी के साथ होगा.

राजा द्रुपद ने अपनी पुत्री के स्वयंवर के लिए सारी तैयारी कर रखी थी. उन्होंने देश के कई महान राजाओ और उनके राजकुमारों को आमंत्रित किया था. सभी स्वयंवर के लिए पांचाल कोर्ट में प्रवेश करते हैं. पांडव उस समय वन में ब्राम्हणों की तरह रहते थे उनकी बढ़ी हुई दाड़ी थी और वेश भी ब्राम्हणों का धारण किये हुए थे. द्रोपदी के स्वयंवर का समाचार जब पांड्वो को मिला तब वे भी पांचाल कोर्ट में प्रवेश करते है. दुर्योधन, कर्ण और श्रीकृष्ण भी स्वयंवर में प्रवेश करते हैं. द्रोपदी अपने भाई धृष्टद्युम्न के साथ हाथी पर सवार होकर कोर्ट में प्रवेश करती है. वे बहुत ही सुंदर लग रहीं थीं. राजभवन में उपस्थित सभी राजकुमार उनके सौन्दर्य को देखकर बहुत प्रभावित हुए. सभी में इस प्रतियोगिता को जीत कर द्रोपदी से विवाह करने की इच्छा उत्पन्न हो गई. द्रोपदी को देखते ही सभी राजा उनसे विवाह करने की इच्छा से अपना – अपना पराक्रम दिखाते है किन्तु इस बहुत ही मुश्किल टास्क में वे सभी एक – एक कर पराजित होते जाते है.

कर्ण, दुर्योधन के खास मित्र थे इसलिए वे दुर्योधन के साथ द्रोपदी के स्वयंवर में शामिल हुए थे. वे भी अपने पराक्रम को दिखाने के लिए सामने आते है. कर्ण के जीवन से जुड़ी रोचक बातें  यहाँ पढ़ें.

किन्तु द्रोपदी उन्हें रोकते हुए कहती है कि – “मैं एक सारथी के बेटे से विवाह नहीं करुँगी”.

कर्ण को अपना यह अपमान सहन नहीं होता है और वे इस वजह से स्वयंवर छोड़ कर चले जाते हैं. देखते ही देखते बहुत से राजा पराजित हो जाते है. यह देखकर राजा द्रुपद अत्यंत दुखी होते है कि उनकी पुत्री से विवाह करने योग्य कोई भी पराक्रमी पुरुष यहाँ उपस्थित नहीं है. तभी अर्जुन ब्राम्हणों के वेश में उस टास्क को करने पहुँचते हैं. कोई भी उन्हें पहचान नहीं पाता है. वहाँ उपस्थित सभी राजकुमार इस बात का विरोध करते है कि एक ब्राम्हण इस प्रतियोगिता का हिस्सा कैसे बन सकता है. किन्तु उस ब्राम्हण के आत्मविश्वास को देखते हुए किसी के कुछ कहने की हिम्मत नहीं होती है. अर्जुन ने बहुत ही आसानी से लक्ष्य को भेद कर उस टास्क को पूरा कर दिया. द्रोपदी यह देखकर बहुत प्रसन्न हुई और वरमाला जाकर सीधे अर्जुन के गले में डाल दी.

सभी राजकुमार अर्जुन से जलते हैं और उस पर आक्रमण करते हैं, तभी पांडू पुत्र भीम अर्जुन को उनसे बचाने के लिए सामने आते हैं. भीम और अर्जुन सहित पाँचों पांडव उन सभी राजकुमारों को आसानी से पराजित करते हुए द्रोपदी को लेकर वहाँ से चले जाते हैं. द्रोपदी का भाई धृष्टद्युम्न यह जानने के लिए कि वे ब्राम्हण कौन हैं, उनका पीछा करते हैं.

जब पांडव अपनी कुटिया पहुँचते हैं. तब वे अपनी माता कुंती से कहते हैं कि – “देखिये, माता हम क्या ले कर आये हैं”,

कुंती उनसे कहती है कि – “जो भी लाये हो आपस में बाँट लो”. क्यूकि कुंती सोचती है कि वे लोग कुछ खाने की चीज लाये हैं.

जब वे देखती हैं कि यह तो एक दुल्हन है जोकि अर्जुन की पत्नी है. कुंती बहुत ही दुखी होतीं हैं कि उन्होंने यह क्या कह दिया. कस्टम के अनुसार पांडवों को अपनी माता के हर एक शब्द जो भी उन्होंने कहा, उनकी आज्ञा मान कर उसका पालन करना होगा. द्रोपदी पाँचों भाइयों की पत्नी कहलायेगी. तभी श्रीकृष्ण वहाँ आते हैं और माता कुंती से कहते है कि –“द्रोपदी ने पिछले जन्म में सर्वगुण संपन्न पति पाने के लिए भगवान शिव की तपस्या की थी, और उसने वरदान में 5 गुणों से युक्त पति की कामना की थी. तब भगवान शिव ने उसे वरदान दिया था कि अगले जन्म में उसे पांच पतियों की प्राप्ति होगी और हर एक पति में एक गुण होगा”. श्रीकृष्ण की बात सुनकर कुंती उनसे सहमत हुईं और इस तरह द्रोपदी पाँचों पांडवों की पत्नी कहलाने लगी.

धृष्टद्युम्न, जोकि पांडवों का पीछा कर रहा था उसने यह सब देखा, और अपने पिता के पास जाकर उनसे कहा –“पिताश्री ! मैं आपके लिए एक खुशख़बर लाया हूँ, वह पराक्रमी ब्राम्हण जिसने द्रोपदी के साथ विवाह किया वह कोई और नहीं बल्कि पांडू पुत्र अर्जुन ही है”. राजा द्रुपद यह सुनकर बहुत खुश हुए. लेकिन जब धृष्टद्युम्न ने अपने पिता को यह बताया कि द्रोपदी पाँचों पांडवों की पत्नी है तो यह सुनकर राजा द्रुपद बहुत दुखी हुए क्यूकि यह कानून के खिलाफ था. उस समय ऋषि व्यास वहाँ आये, उन्होंने राजा द्रुपद से कहा – “हालांकि इस तरह के विवाह की पवित्र ग्रंथों में अनुमति नहीं है किन्तु यह एक विशेष विवाह है जोकि स्वयं भगवान शिव का वरदान है जो द्रोपदी को मिला है तो यह कानून के खिलाफ नहीं है”. ऋषि वेद व्यास के बारे में यहाँ पढ़ें.

राजा द्रुपद ऋषि व्यास की बातों से सहमत होते है और अपनी पुत्री के विवाह का आयोजन करवाते हैं. पाँचों पांडव अपनी माता कुंती के साथ राजभवन में प्रवेश करते है. तभी वहाँ युधिष्ठिर अपना वास्तविक परिचय देते है. इस बात से राजा द्रुपद को बहुत ख़ुशी होती है क्यूकि वे अपनी पुत्री द्रोपदी का विवाह अर्जुन के साथ ही कराना चाहते थे और वही हुआ. फिर द्रोपदी का पाँचों पांडवों के साथ विवाह सम्पन्न हुआ और वे सभी माता कुंती के साथ ह्स्तनापुर पहुँचते है. पांडवों के जीवित होने की सुचना जब ह्स्तानापुर में सभी को मिलती है तो सभी बहुत प्रसन्न होते है.

अन्य पढ़ें :-

Ankita

अंकिता दीपावली की डिजाईन, डेवलपमेंट और आर्टिकल के सर्च इंजन की विशेषग्य है| ये इस साईट की एडमिन है| इनको वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ और कभी कभी आर्टिकल लिखना पसंद है|
Ankita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *