Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

गठिया रोग का घरेलु इलाज | Gathiya rog treatment in hindi

Gathiya (Arthritis) rog treatment ( gharelu ilaj ) in hindi अगर आपके घुटनों, कूल्हों, हाथ व शरीर के अन्य किसी जोड़ पर दर्द होता है, तो समझ लीजीये कि आपको गठिया की परेशानी है. गठिया की बीमारी से परेशान लोगों को इतना भयानक दर्द होता है, कि वे बैचैन हो जाते है. दर्द को कोई स्पष्ट कारण नहीं है, और फिर ये धीरे धीरे गठिया का रोग बन जाता है. आज के समय में ये बहुत आम बीमारी है, जो किसी भी प्रकार से हो सकती है. साधारण शब्दों में कहा जाये तो अगर आपके एक या एक से अधिक जोड़ों में दर्द व् सुजन रहती है तो आप गठिया रोग से पीढित है.

गठिया के लक्षण (Gathiya rog lakshan)- दर्द के साथ साथ कुछ और लक्षण होते है, जैसे

  • सुजन,
  • जोड़ो के आस पास लाल होना,
  • शरीर के उस हिस्से को हिलाने में तकलीफ होना,
  • जकड़न.

गठिया में तकलीफ इतनी बढ़ जाती है कि ये शरीर के जोड़ो को छुने से भी दर्द का अहसास होता है. गठिया का रोग मुख्यतः 100 से ज्यादा प्रकार का होता है. गठिया हलके से गंभीर स्तिथि में अलग होता है.

gathiya

गठिया का कारण (Gathiya / Arthritis rog karan) –

गठिया शरीर में यूरिक एसिड के बढ़ जाने से भी होता है. यह वह विषेला पदार्थ है जिसे शरीर, मूत्र के माध्यम से बाहर निकाल देता है. इस प्रक्रिया को करने में किडनी मुख्य भूमिका निभाती है. जब किडनी अपना काम सुचारू रूप से नहीं करती है, तब ये पदार्थ शरीर में ही इक्कठा होने लगता है. और फिर ये जोड़ो में जाकर दर्द का कारण बनता है. यह रोग अनुवांशिक भी होता है, मतलब परिवार के एक सदस्य से दुसरे में जाता है. 

गठिया रोग का घरेलु इलाज

Gathiya (Arthritis) rog treatment in hindi

गठिया का घर में उपचार के तरीके – गठिया की परेशानी में लोग सबसे पहले डॉक्टर के पास जाते है, वहां उन्हें लम्बी चौड़ी दवाई की लिस्ट पकड़ा दी जाती है. कुछ लोगों को तो ये दवाइयां तुरंत असर दिखाती है, लेकिन कुछ लोगों को लम्बे समय तक इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है. लम्बे समय तक दवाई खाते खाते मरीज भी परेशान हो जाता है. आज हम आपको इसका प्राकतिक घरेलु उपचार बताते है. आप घर में ही अपने खान पान में सुधार करके इस बीमारी से लड़ सकते है.

  1. अदरक– अदरक घर में आसानी से मिलने वाली चीज है, इसकी मदद से गठिया का दर्द दूर किया जा सकता है.
  •  सूखे अदरक को पीस कर उसका पाउडर बना लें, अब 6 चम्मच अदरक पाउडर में, 6 चम्मच जीरा पाउडर व् 3 चम्मच काली मिर्च पाउडर मिलाएं. सबको अच्छे से मिलाकर, आधी चम्मच पाउडर को पानी के साथ खा लें. ऐसा हर रोज दिन में 3 बार करें.
  • अदरक का तेल दर्द वाली जगह में लगाने से आराम मिलता है, साथ ही जकड़न दूर होती है.
  • रोज अदरक का टुकड़ा चबाने से भी आराम मिलता है, इससे शरीर में खून का संचार भी बढ़ता है.
  1. एप्पल विनेगर – एप्पल विनेगर पोषक तत्व की खदान है, इसमें मैग्नीशियम, कैल्सियम, पोटेशियम व् फोस्फोरस होता है. इसके उपयोग से जोड़ो के दर्द में आराम मिलता है. यह जोड़ो से यूरिक एसिड की अधिकता को कम करता है.
  •   1 कप में गुनगुना पानी लें, अब इसमें 1-1 चम्मच विनेगर व् शहद मिलाएं.
  •   इसे रोज सुबह सुबह पियें, बहुत जल्द आराम मिलेगा.
  1. हल्दी – हल्दी के रोज उपयोग से सुजन कम होती है. गठिया से होने वाली सुजन पर भी ये असरदारी है.
  • आप हल्दी की जो कैप्सूल आती है, वह 500mg या 1000mg की ले सकती है.
  • आप हल्दी का जूस भी पी सकते है. इसके अलावा गर्म दूध में हल्दी डालकर सोने से पहले पियें. आराम मिलेगा.
  1. मसाज – गठिया के रोग में सरसों के तेल से मालिश बहुत अच्छी होती है. इससे जकड़न व् दर्द दोनों ठीक हो जाता है. ये प्राकतिक उपचार है, जिससे खून का संचार भी बढ़ता है.
  • तेल को हल्का गुनगुना कर लें, आप इसमें प्याज का रस भी मिला सकते है. अब इसे जोड़ो में दर्द वाले स्थान में लगायें. अब इसे प्लास्टिक से व्रैप कर लें फिर इसमें गर्म टोवल से सिकाई करें. रात को सोने से पहले रोज ऐसा करें.
  • आप चाहें तो बर्फ से भी सिकाई कर सकते है.
  1. सेंधा नमक – सेंधा नमक में मैग्नीशियम की अधिकता होती है, जिससे ये शरीर में ph लेवल को संतुलित बनाये रखता है. शरीर में ph लेवल का संतुलित होना बहुत जरुरी होता है, क्यूंकि हाई एसिडिटी से गठिया जैसे रोग उभरते है.
  • आधा कप गुनगुना पानी में 1 छोटी चम्मच सेंधा नमक व् उतनी ही मात्रा में निम्बू का रस मिलाएं. अब इस मिक्सचर को 1 चम्मच सुबह व् 1 चम्मच रात को पियें.
  • आप बाल्टी में गुनगुने पानी को लेकर उसमें सेंधा नमक डालकर, जोड़ो की सिकाई करें. आराम मिलेगा.
  1. दालचीनी – दालचीनी में एंटीओक्सिडेंट प्रॉपर्टीज होती है, जिससे ये गठिया के दर्द को जल्द दूर कर देती है.
  • 1 कप गुनगुने पानी में ½ tsp दालचीनी पाउडर, 1 tsp शहद मिलाएं. इसे रोज सुबह खाली पेट पियें. ऐसा रोज कुछ दिनों तक करें.
  • आप दालचीनी पाउडर व् शहद को मिलाकर पेस्ट बना लें, अब इसे दर्द वाले स्थान में लगायें, जल्दी ही दर्द कम हो जायेगा.
  1. मछली का तेल – मछली के तेल में ओमेगा 3 एसिड होता है, जो दर्द को बहुत जल्दी कम कर देता है.
  • 1-2 चम्मच मछली का तेल रोज डाइट में शामिल करें.
  • गठिया के रोगी को सुबह सुबह उठते साथ बहुत परेशानी होती है. रात भर एक सी पोजीशन में रहने से हाथ पैर, शरीर में जकड़न आ जाती है, अतः उठते साथ वे लोग अच्छा महसूस नहीं करते है. खाली पेट मछली का तेल लेने से इस परेशानी को दूर कर सकते है.
  1. अल्फला बीज – अल्फला बीज एक हर्ब है, जिसमें बहुत से मिनिरल्स होते है, जो शरीर में ph लेवल ठीक करने में मदद करता है.
  • 1 कप उबलते पानी में 1 tsp अल्फला बीज डालें, अब 15-20 min उबलने दें. अब इसे छान कर दिन में 2 बार पियें. 2-3 हफ्ते ऐसा करने से आराम मिल जायेगा.
  • इसके अलावा आप इसकी कैप्सूल भी खा सकते है, जो मार्किट में आसानी से मिल जाती है.
  1. चेरी – चेरी मैग्नीशियम व् पोटेशियम का बहुत अच्छा स्त्रोत है. दोनों ही गठिया के रोग को दूर करता है. पोटेशियम सुजन दूर करता है, वहीँ मैग्नीशियम दर्द दूर करने में सहायक होता है.
  • 8-10 चेरी का सेवन रोज करें. आप ताजी, फ्रोजेन कोई भी खा सकते है.
  • इसके अलावा चेरी का सिरप पी सकते है. इसे बनाने के लिए एक बर्तन में थोडा सा पानी गर्म करें, अब इसमें कुछ चेरी डालकर उबलने दें. इसे तब तक उबालें जब तक एक मीठा सिरप न बन जाये. इसे रोज कुछ महीने तक पियें.
  • चेरी के अलावा जिसमें पोटेशियम होता है, उसका सेवन करें. केला, दही में भी ये पाया जाता है.
  1. मैथी – मैथी भी इस रोग में आराम देती है. मैथी दानों को पीस कर उसका पाउडर बना लें, अब इसे रोज सुबह पानी के साथ खाएं. कुछ ही दिनों में फर्क आएगा.
  2. लहसुन लहसुन एक ऐसी चीज है, जो हर किसी के घर में उपलब्ध होती है. गठिया की परेशानी को लहसुन भी कम करती है.
  • आप लहसुन की कुछ कलियों को 1 गिलास दूध में डाल कर उबालें. कुछ देर उबालने के बाद इसे ठंडा कर पी लें. आराम मिलेगा.
  • इसके अलावा कपूर में लहसुन का रस मिलाएं, अब इसकी मालिश दर्द वाली जगह पर करें.
    1. अन्य बातें –
1 पानी अधिक पियें.
2 वजन को नियंत्रण रखें.
3 विटामिन c से युक भोज्य पदार्थ का सेवन अधिक करें.
4 फाइबर युक्त भोजन जैसे, दलीया, बाजरा, चोकर वाला आटा, आटे की ब्रेड व् बिस्किट का सेवन अधिक करें.

गठिया का अगर और कोई घरेलु उपचार आप जानते है, तो हमारे साथ जरुर शेयर करें. तकलीफ बढ़ने पर डॉक्टर के पास जाने न हिचकिचायें|

Follow me

Vibhuti

विभूति अग्रवाल मध्यप्रदेश के छोटे से शहर से है. ये पोस्ट ग्रेजुएट है, जिनको डांस, कुकिंग, घुमने एवम लिखने का शौक है. लिखने की कला को इन्होने अपना प्रोफेशन बनाया और घर बैठे काम करना शुरू किया. ये ज्यादातर कुकिंग, मोटिवेशनल कहानी, करंट अफेयर्स, फेमस लोगों के बारे में लिखती है.
Vibhuti
Follow me

2 comments

  1. awesome Artical Thanks

  2. Siddharth Singh sahrawat

    It is really helpful and by applying this auryedic methods there is no any side effects

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *