स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त हिंदी शायरी कविता भाषण | 15 August Independence Day Swatantrata Diwas shayari in hindi

स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त शायरी, कविता ,भाषण निबंध [15 August Independence Day in Hindi] [Independence Day (Swatantrata Diwas) Speech (Bhashan), shayari in hindi]

आज क्यूँ देश भक्ति राष्ट्र के दो पर्वो में सिमट कर रही गयी हैं ? ऐसे तो कोई देश के लिए नही सोचता बस अगस्त और जनवरी में ही क्यूँ खून उबलता हैं. हम सभी को इस पर विचार करना चाहिए. आज स्वतंत्रता के लिए नहीं अपितु देश के भीतर आतंकवाद एवम भ्रष्ट्राचार के लिए लड़ना हैं और मुखोटा पहने अपनों के खिलाफ लड़ना हैं. यह लड़ाई और भी ज्यादा गंभीर हैं क्यूंकि इसमें कौन अपना हैं कौन पराया यह समझना मुश्किल हैं.

आज की सदी में देश को देशभक्त की ज्यादा जरुरत हैं क्यूंकि आज दुश्मन अंग्रेज नहीं, नाही सीमा पर इतना खतरा हैं जितना भ्रष्ट्राचारियों से देश को हैं.आज सिपाही को नहीं आम नागरिक को देश की हिफाजत करनी हैं.

साल 2020 में स्वतंत्रता दिवस (74 nd India Independence Day 2020)

इस साल हम अपना 74 वां आजादी दिवस मनाने जा रहे हैं और इस वर्ष यह दिन बुधवार के दिन आ रहा है. साथ में ही इस बार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी  ने अपने भाषण के विषय को लेकर लोगों से सुझाव भी मांगे हैं और उन्होंने लोगों से कहा है कि वो उन्हें बताए कि वो इस दिन दिल्ली के लाल किले से किस विषय पर भाषण दें. पीएम मोदी ने ट्वीट के जरिए लोगों से उनके ये सुझाव मांगे हैं और लोगों द्वारा उन्हें कई विषयों के सुझाव भी दिए जा रहे हैं.

स्वतंत्रता दिवस 2020 मुख्य अतिथि (Chief Guest)

हर साल स्वतंत्रता दिवस के दिन हमारी सरकार द्वारा अन्य देश से किसी ना किसी व्यक्ति को बतौर मुख्य अतिथि के तौर पर निमंत्रण दिया जाता है. हालांकि इस साल इस दिवस पर सरकार द्वारा किसी भी व्यक्ति को मुख्य अतिथि के तौर पर नहीं बुलाया गया है.  

राष्ट्रीय गान जागरूकता अभियान (National Anthem Awareness Campaign) –

स्वतंत्रता दिवस के दिन राष्ट्रीय गान जागरूकता अभियान भी शुरू किया जाएगा और इस अभियान के जरिए लोगों को बताया जाएगा, कि वो किस तरह से हमारे देश का राष्ट्रीय गान गाएं. क्योंकि हमारे देश में अभी भी कई ऐसे लोग हैं जिन्हें राष्ट्रीय गान के शब्द सही से बोलना नहीं आते हैं. ये अभियान सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश न्यायमूर्ति संतोष हेगड़े के नेतृत्व में शुरू होगा.

स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें शायरी (15 August Independence Day or Swatantrata Diwas Shayari Kavita Poem in hindi)

लोकतंत्र हैं आ गया, अब छोड़ो निराशा के विचार को
बस अधिकार की बात ना सोचों, समझों कर्तव्य के भार को
भुला न पायेगा काल, प्रचंड एकता की आग को
शान से फैलाकर तिरंगा, बढ़ाएंगे देश की शान को
बीत जायेगा वक्त भले, पर मिटा ना पायेगा देश के मान को
ऐसी उड़ान भरेंगे, दुश्मन भी होगा मजबूर, ताली बजाने को
एकता ही संबल हैं, तोड़े झूठे अभिमान को
कंधे से कंधा मिलाकर, मजबूत करें आधार को
इंसानियत ही धर्म हैं, बस याद रखें, भारत माता के त्याग को
चंद पाखंडी को छोड़कर, प्रेम करें हर एक इंसान को
देश हैं हम सबका, बस समझे कर्तव्य के भार को
नव युग हैं आ गया, अब छोड़ो निराशा के विचार को

Independence Day Swatantrata Divas Hindi Shayari Kavita Poem

कर जस्बे को बुलंद जवान
तेरे पीछे खड़ी आवाम
हर पत्ते को मार गिरायेंगे
जो हमसे देश बटवायेंगे

Happy Independence Day

भले हाथो में चूड़ी खनके
छन-छन करते पायल झुमके
पर देश की हैं हम प्रचंड नारी
वक्त पड़ने पर उठाएंगे तलवारे भारी

Swatantrata Divas Kavita

जहाँ प्रेम की भाषा हैं सर्वोपरि
जहाँ धर्म की आशा हैं सर्वोपरि
ऐसा हैं मेरा देश हिन्दुस्तान
जहाँ देश भक्ति की भावना हैं सर्वोपरि

Independence Day SMS for whtsapp

तिरंगा हमारा हैं शान- ए-जिंदगी
वतन परस्ती हैं वफ़ा-ए-ज़मी
देश के लिए मर मिटना कुबूल हैं हमें
अखंड भारत के स्वपन का जूनून हैं हमें

Swatantrata Divas Hindi Shayari

मोहब्बत का दूसरा नाम हैं मेरा देश
अनेको में एकता का प्रतिक हैं मेरा देश
चंद गैरों की सुनना मुझे गँवारा नहीं
हिन्दू हो या मुस्लिम सभी का प्यारा है मेरा देश

Swatantrata Divas Hindi Poem

दुश्मनी के लिए यह याद नहीं रहता
वतन मेरा दोस्ती पर कुर्बान हैं

नफरत पाले कोई उड़ान नहीं भरता
दिलों में चाहत ही मेरे वतन की शान हैं

स्वतंत्रता दिवस कविता

खुशनसीब हैं जो वतन पर कुर्बान हुये
जो तिरंगे में लिपट कर जिन्दगी से आजाद हुये
मर कर भी अमर हो गये वो
साधारण मनुष्य से शहीद की शहादत हो गये वो

Independence Day Swatantrata Divas Hindi Shayari Kavita Poem

वतन हैं मेरा सबसे महान
प्रेम सौहाद्र का दूजा नाम
वतन-ए-आबरू पर हैं सब कुर्बान
शांति का दूत हैं मेरा हिन्दुस्तान

independence Day Hindi SMS Whatsapp

मोक्ष पाकर स्वर्ग में रखा क्या हैं
जीवन सुख तो मातृभूमि की धरा पर हैं 

तिरंगा कफ़न बन जाये इस जनम में
तो इससे बड़ा धर्म क्या हैं.

Swatantrata Divas Hindi Shayari whatsapp

आजाद भारत के लाल हैं हम
आज शहीदों को सलाम करते हैं
युवा देश की शान हैं हम
अखंड भारत का संकल्प करते हैं

Swatantrata Divas Hindi sms

 

कीमत करो शहीदों की
वो देश पर कुर्बान हुए
सिर्फ दो दिनों की मोहताज नहीं हैं देश भक्ति
नागरिको की एकता ही हैं देश की असल शक्ति

Swatantrata Divas Hindi kavita

ना हिन्दू बन कर देखो
ना मुस्लिम बन कर देखों

बेटों की इस लड़ाई में
दुःख भरी भारत माँ को देखो

independance day sms hindi

धर्म ना हिन्दू का हैं ना ही मुस्लिम का
धर्म तो बस इंसानियत का हैं
ये भूख से बिलकते बच्चो से पूछों
सच क्या हैं झूठ क्या हैं
किसी मंदिर या मज्जित से नहीं
बेगुनाह बच्चे की मौत पर किसी माँ से पूछो
देश का सपूत बनाना हैं तो कर्तव्य को जानो
अधिकार की बात न करों देश के लिए जीवन न्यौछारों

Independence Day SMS whtsapp

आपके लिए स्वतंत्रता दिवस पर शायरी, कविता के साथ हिंदी में भाषण भी लिखा गया हैं. देश के प्रति प्रेम की भावना तो सभी में होती हैं लेकिन उसे शब्दों में बाँध पाने की कला सभी में नहीं होती इसलिये आपकी मदद करने के लिए मैंने अपने भीतर की देश भावना को इन शब्दों में सजाने की कोशिश की हैं जिससे आप सभी की मदद हो सके.

Independence Day Speech (स्वतंत्रता दिवस पर भाषण )

स्वतंत्रता जो हमें हमारे पूर्वजों ने 15 अगस्त 1947 को दिलाई. एक ऐसी सुनहरी तारीख जिसके कारण हम आज आजाद भारत में सांस ले रहे हैं. इस आजादी के मोल में कई शहीदों ने अपनी जान चुकाई. तब जाकर हमें आजाद भारत की छत मिल पाई हैं.

अब हमारा कर्तव्य हैं कि हम उन शहीदों को श्रद्धांजलि के रूप में भारत देश का नाम सुनहरे अक्षरों में लिखवाये.

भारत भूमि माँ स्वरूप मानी जाती हैं. देशवासी भारत माता के बच्चे हैं. अपनी माँ के लिए कर्तव्य निभाने वाले शहीद ही माँ की सच्ची संताने हैं.

शहीद के लिए जितना कहे कम हैं. एक ऐसा महान व्यक्ति जो अपने कर्तव्य के आगे अपनी जान तक को तुच्छ मानता हैं. उसके लिए शब्दों में कुछ कह पाना आसान नहीं.

पर हम सभी लोग जिन्हें जान देने का मौका नहीं मिलता या कहे हममे उतनी हिम्मत, ताकत नहीं हैं. हम भी देश के लिए कार्य कर सकते हैं. जरुरी नहीं जान देकर ही देशभक्ति का जस्बा दिखाया जाये. हमें अपने कर्तव्यों अधिकारों के प्रति सजक होना होगा उनका निर्वाह करना होगा. यह उन शहीदों, देश भक्तो एवम मातृभूमि के लिए हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी.

देश भक्ति प्राण न्यौछावर करके ही निभाई नहीं जाती. देश के लिए हर मायने में वफादार होना भी देश भक्ति हैं. देश की धरोहर की रक्षा करना, देश को स्वच्छ बनना, कानून का पालन करना, भ्रष्ट्राचार का विरोध करना, आपसी प्रेम से रहना आदि  यह सभी कार्य देशभक्ति के अंतर्गत ही आते हैं.

देश के लिए वफादार बनना ही सही मायने में देश की सेवा हैं. इससे देश भीतर से मजबूत होता हैं. देश में एकता बढती हैं और एकता ही देश की शक्ति होती हैं.

दो सो सालों की गुलामी के बाद देश आजाद हुआ था. 1947 में देश को आजादी एकता के कारण ही मिली थी लेकिन इस एकता में सदा के लिए दो गुट बन गए. वे दो गुट धर्म, साम्प्रदायिकता की देन नहीं अपितु अंग्रेजो की दी फुट की देन थी. और आज तक अंग्रेजो का दिया. वह घृणित तौहफा हमारे देश को कमजोर बना रहा हैं. यह घृणित फांसला हमारे देश के भीतर तो हैं ही साथ में भारत पाकिस्तान दोनों देशो के बीच भी आज तक गहरा हैं.

इस घृणा का मोल हम सभी को हर वक्त चुकाना पड़ता हैं. देश की आय का कई गुना खर्च सीमा पर देश की लड़ाई में व्यय होता हैं जिस कारण दोनों ही देशों के कई लाखों लोगो को रात्रि में बिना भोजन के सोना पड़ता हैं.

आजादी के 69 सालों बाद भी दोनों देश गरीब हैं इसका कारण हैं आपसी फुट. जिसका फायदा उस वक्त भी तीसरे लोगो ने उठाया और आज भी उठा रहे हैं.

1947 के पहले 1857 में भी इसी तरह से क्रांति छिड़ी थी. देश में चारो तरह आजादी के लिए युद्ध चल रहे थे. उस वक्त राजा महाराजों का शासन था लेकिन वे सभी राजा अंग्रेजों के आधीन थे. 1857 का वक्त रानी लक्ष्मी बाई के नाम से जाना जाता हैं.उस वक्त भी अंग्रेजो की फुट एवम राजाओं के बीच सत्ता की लालसा के कारण देश आजाद नहीं हो पाया.

उसके जब हम मुगुलो और राजपूतों का वक्त देखे तब भी फुट ने ही देश को कमजोर बनाया. उस वक्त भी महाराणा प्रताप की हार का कारण फुट एवम राजाओं की सत्ता की भूख थी.

और आज हम जब निगाहे उठाकर देखते हैं. तब भी हमें यही दीखता हैं कि देश के नेताओं को बस सत्ता की भूख हैं.वो देश की जानता को साम्प्रदायिकता के जरिये तोड़ रहे हैं. और इसमें उन्हें बस सत्ता की भूख हैं.

इन सभी में बदलाव लाने के लिए हम सभी को जागने की जरुरत हैं. यह लड़ाई इतनी आसानी से कम नहीं होगी. उल्टा दिन पर दिन बढ़ती जाएगी. इसका एक ही हल हो सकता हैं कि आने वाली पीढ़ी को शिक्षित किया जाये. अच्छे बुरे की समझ दी जाये. आदर, सम्मान एवम देशभक्ति का मार्ग दिखाया जाये. इसके बाद ही देश में बदलाव आ सकते हैं.

हमारा देश जिसका ध्वज तीन रंगों से मिल कर बना हैं जिसमे केसरिया रंग जो प्रगति का प्रतीक हैं, सफ़ेद जो अमन एवं शांति का प्रतीक हैं, हरा जो समृद्धि का प्रतीक हैं. साथ में अशोक चक्र जो हर पल बढ़ते रहने का सन्देश देता हैं. तिरंगे का सफ़ेद रंग पूरी दुनियाँ को शांति का सन्देश देता हैं क्यूंकि युद्ध से सभी देशों एवम नागरिको पर बुरा असर पड़ता हैं.याद रखियेगा लड़ते वही हैं जिनमे शिक्षा का आभाव होता हैं. अगर किसी देश की प्रगति चाहिए तो उस देश का शिक्षा स्तर सुधारना सबसे जरुरी हैं.

स्वतंत्रता दिवस पर केवल शहीदों को याद करना. राष्ट्रीय सम्मान करना. देश भक्ति की बाते करने के अलावा हम सभी को प्रण लेना चाहिए कि रोजमर्रा के कार्य में देश के लिए सोच कर कुछ करे  जिसमे देश की सफाई, अपने बच्चो एवम आस-पास के बच्चो को एक सही दिशा देने के लिए कुछ कार्य करें, गरीब बच्चो को पढ़ने में मदद करें, बुजुर्गो को सम्मान दे, क्राइम के प्रति जागरूक होकर दोषी को दंडित करें, गलत को गलत कहने की हिम्मत रखे, जान बुझकर या अनजाने में भी भ्रष्टाचार का साथ ना दे एवम सबसे जरुरी देश के नियमो का पालन करे. अगर हम रोजमर्रा में इन चीजो को शामिल करते हैं तो देश जरुर प्रगति करेगा और हम सभी भी देश के सपूत कहलायेंगे.

15 अगस्त, 26 जनवरी केवल यह दो दिनों के मौहताज ना बने. मातृभूमि इस दिन का इन्तजार नहीं करती. वो तो उस दिन का इंतजार कर रही हैं जब देश की भूमि पर भ्रष्टाचार का नाम न हो, जब बेगुनाहों का कत्लेआम ना हो, जब नारी की अस्मत का व्यापार ना हो, जब माता- पिता को वृद्ध होने का संताप ना हो. ऐसे दिन के इंतज़ार में मातृभूमि आस लगाये बैठी हैं. क्यूँ न यह सौभाग्य हमें मिले और हम अपने छोटे से कार्य का योगदान देकर मातृभूमि की इस इच्छा को पूरी करने के लिए एक नीव का मूक पत्थर बन जायें.

Swatantrata Divas Hindi bhashan

अन्य पढ़े :

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *