जीतू राय का जीवन परिचय | Jitu Rai Shooter Biography In Hindi

Jitu Rai Shooter Biography In Hindi जीतू राय एक भारतीय निशानेबाज (shooter) है, जोकि नेपाल के है. किन्तु वे भारत की ओर से खेलते है. हाल ही में हुए, रियो ओलंपिक में इन्होंने भारत का प्रतिनिधित्व कर 10m एयर पिस्टल और 50m पिस्टल स्पर्धाओं में बेहतर प्रदर्शन दिया. भारत वासियों को इनसे रियो ओलंपिक में पदक जीतने की सबसे ज्यादा उम्मीदें थी, किन्तु कोई पदक इनके नाम न लग सका. ये भारतीय सेना के एक सैनिक है. भारत और नेपाल के ये पहले ऐसे योद्धा है, जिन्होंने एक ही विश्व कप में 2 पदक जीते थे. भारत सरकार ने जीतू राय के लिए “राजीव गाँधी खेल रत्न अवार्ड” की घोषणा की. जीतू राय ने अपनी मेहनत और अच्छे प्रदर्शन से कई मैडल जीते. ग्लासगो (Glasgo) में आयोजित “राष्ट्रमंडल खेल 2014” में इन्होंने 196.1 का स्कोर लेकर स्वर्ण पदक जीता. जीतू राय बहुत ही प्रतिभावान है, जोकि अपने बेहतरीन प्रदर्शन से विश्व में भारत का नाम ऊँचा कर रहे है.  

जीतू राय का जीवन परिचय 

Jitu Rai Shooter Biography History In Hindi

जीतू राय का जीवन परिचय निम्न सूची में दर्शाया गया है –

क्र.म.जीवन परिचय बिंदुजीवन परिचय
1.पूरा नामजीतू राय
2.जन्म26 अगस्त 1987
3.जन्म स्थानसंखुवासभा जिला, नेपाल
4.राष्ट्रीयतानेपाली, भारतीय
5.परिवारपिता – (not known)

माता – (not known)

भाई-बहन – 5 (जीतू चौथे है)

6.कद160 सेमी
7.वजन64 किग्रा
8.पेशानिशानेबाज़ी (Shooting), आर्मी सर्विस
9.प्रतिस्पर्धा10m एयर पिस्टल

50m पिस्टल

10.कोचस्मिर्नाव पावेल

गर्वराज राय (लखनऊ में)

जीतू राय का जीवन परिचय निम्न बिन्दुओं के आधार पर बताया गया है.

  • जीतू राय का जन्म और उनका शुरुआती जीवन
  • जीतू राय का कैरियर
  • जीतू राय की उपलब्धियां
  • जीतू राय का 2014 – 15 में प्रदर्शन
  • जीतू राय का 2016 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में प्रदर्शन

जीतू राय का जन्म और उनका शुरुआती जीवन (Jitu Rai life history) –

जीतू राय का जन्म 26 अगस्त सन 1987 को नेपाल के संखुवासभा जिले में हुआ. इन्होंने अपना शुरूआती जीवन यहीं व्यतीत किया. इनके पिता भारतीय सेना में सैनिक थे और सन 2006 में वे शहीद हो गए. इनकी माता एक किसान है, जोकि वहीँ रहती है और ये 5 भाई एवं बहनें है. जिनमे से जीतू चौथे नंबर के है. जीतू का परिवार हिन्दू धर्म को मानता है.

Jitu Rai

जीतू ने उच्चतर पढ़ाई “देवी अहिल्या विश्वविद्यालय (DAVV)” इंदौर मध्यप्रदेश से की. इन्होंने अपने करियर की शुरूआत भारत में, उत्तरप्रदेश के लखनऊ शहर से की. ये यहाँ बड़े हुए. जीतू राय एक भारतीय है और इनका पासपोर्ट भी यहीं का है. सन 2007 की शुरुआत से अंत तक खेल में सेना के निशानेबाजों की संख्या काफी बढ़ी है. सबसे ज्यादा आश्चर्य की बात यह है कि पूर्वी नेपाल के संखुवासभा जिले के गाँव में वे खेती किया करते थे. लेकिन इसमें उनका मन नहीं लगा और उन्होंने ब्रिटिश सेना ज्वाइन करने के लिए अप्लाई किया, लेकिन इससे पहले की वे कोई और फैसला कर पाते, वे भारतीय सेना में स्थापित हो गए और सीमा के पार चले गए. फिर वे “11 गोरखा राइफल्स” के नायाब सूबेदार बने. जब वे सेना में शामिल हुए, तब उनकी इसमें रूचि नही थी और वे यहाँ से जाने की कोशिश करने लगे, किन्तु धीरे – धीरे उन्होंने देखा कि वे इसमें बहुत अच्छे है.

जीतू राय का कैरियर (Jitu Rai Career) –

जीतू राय के पिछले कुछ साल बहुत ही जबरदस्त रहे, जबकि पिछले कुछ साल से ये कई तरह की चोटों से भी ग्रस्त हो गये थे. किन्तु इन्होने हार न मानते हुए, अपनी कमियों को दूर किया और दुनिया के सामने एक उदहारण प्रस्तुत किया.

जीतू राय ने पहली बार सन 2010 – 11 में सेना की शूटिंग टीम में जगह बनाई, लेकिन उम्मीदों पर खरा ना उतर सके और बाद में उनकी यूनिट को वापस भेज दिया गया, और वे महू  में AMU में अपने प्रशिक्षण के लिए चले गए. उसके बाद इन्होंने महू में सेना की निशानेबाजी यूनिट में अपनी जगह बनाने के लिए 2 बार प्रयत्न किया. सन 2011 में उत्तरप्रदेश के प्रतिनिधित्व में हुए “राष्ट्रीय खेल” में इन्होंने भाग लिया और इन्हें प्रमाण पत्र दिया गया.

11 GRCC – जीतू राय के सैन्य दल के आधार पर, लखनऊ के कमांडेंट, अमूल अस्थाना ने कहा  कि – “नागरिकता अधिनियम 1955 (citizenship ACT 1955) के अनुसार जीतू एक भारतीय नागरिक है, और  इनके पास भारतीय मान्यता वाला पासपोर्ट है”. वर्तमान में विश्व में इनका स्थान 50m पिस्टल स्पर्धा में दूसरा और 10m एयर पिस्टल स्पर्धा में तीसरा है.

जीतू राय की उपलब्धियां (Jitu Rai Achievements) –

जीतू राय पिछले कुछ सालों में बहुत से मेडलों के हकदार बने. इनमें से कुछ इस प्रकार है-

क्र.म.   वर्ग      प्रतियोगिता का नाम      पदक
1.50m पिस्टल51st ISSF वर्ल्ड चैंपियनशिप 2014 ग्रानाडा (Granada) रजत
2.10m एयर पिस्टलISSF वर्ल्ड कप 2014 मारीबोर (maribor)स्वर्ण
3.10m एयर पिस्टलISSF वर्ल्ड कप 2014 म्युनिक (munich)रजत
4.50m पिस्टलISSF वर्ल्ड कप 2014 मारीबोर (maribor)रजत
5.10m एयर पिस्टलISSF वर्ल्ड कप 2014 चंग्वों (changwon)कांस्य
6.50m पिस्टलकॉमनवेल्थ गेम्स 2014 ग्लासगो (Glasgo)स्वर्ण
7.50m पिस्टलएशियाई गेम्स 2014 इन्चेओन (Incheon)स्वर्ण

 

8.10m एयर पिस्टल टीमएशियाई गेम्स 2014 इन्चेओन (Incheon)कांस्य

इस तरह इनको बहुत से मैडल मिले जिससे इन्होंने भारत का गौरव बढ़ाया, और आगे भी बढ़ाते रहेंगे.

जीतू राय का 2014 – 15 में प्रदर्शन –

सन 2014 में म्युनिक (Munich) में हुए “ISSF वर्ल्ड कप” में इन्होंने 10m एयर पिस्टल स्पर्धा में रजत पदक जीता. इसके बाद मनिबोर में राय ने 2 पदक जीते, 50m पिस्टल स्पर्धा में रजत और 10m पिस्टल स्पर्धा में स्वर्ण. इसी के चलते वर्ल्ड कप के 9 दिनों में इन्होंने 3 पदक जीते और भारत के लिए एक वर्ल्ड कप में 2 पदक जीतने वाले ये पहले खिलाड़ी बने. उनकी इस उपलब्धियों से जुलाई सन 2014 में विश्व में वे 10m एयर पिस्टल स्पर्धा में 1 स्थान पर और 50m पिस्टल स्पर्धा में 4 स्थान पर पहुँच गए.

सन 2014 में “कॉमनवेल्थ गेम्स” में जीतू राय ने 50m पिस्टल स्पर्धा में योग्यता वाले चरण में 562 पॉइंट स्कोर कर, एक नया रिकॉर्ड बनाया. फिर फ़ाइनल में इन्होंने 194.1 पॉइंट स्कोर कर स्वर्ण पदक जीता और एक नया रिकॉर्ड बना दिया.

सन 2014 में दक्षिण कोरिया के इन्चेओन (Incheon) में हुए “एशियाई गेम्स” में जीतू ने 50m पिस्टल स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता. उन्होंने आदमियों की 10m एयर पिस्टल टीम स्पर्धा में कांस्य पदक भी जीता.

स्पेन के ग्रानाडा (Granada) में हुए “51st ISSF वर्ल्ड चैंपियनशिप” 2014 में आदमियों की 50m पिस्टल स्पर्धा में जीतू राय ने रजत पदक जीत कर, 2016 में होने वाले “रियो ओलंपिक गेम्स” में क्वालीफाई कर लिया.

जीतू राय का 2016 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में प्रदर्शन (Jitu Rai Rio Olympics) –

जीतू राय का सन 2016 में हुए ग्रीष्मकालीन रियो ओलंपिक में प्रदर्शन इस प्रकार रहा.

क्र.म.सालस्पर्धा      रैंक
1.201610 m एयर राइफल

50 m पिस्तौल

       8

      12

सन 2016 के रियो ओलंपिक में जीतू राय ने 10m एयर पिस्तौल स्पर्धा में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया. वे फाइनल तक भी पहुंचे, किन्तु फाइनल में उनका प्रदर्शन ज्यादा अच्छा नही रहा और वे 8वें स्थान में पहुंच कर, बिना किसी पदक के वापस लौट गए. किन्तु वे अपने पसंदीदा 50m पिस्तौल स्पर्धा के लिए वापस आये और पहले चरण में 100 में से 92 पॉइंट लेकर 14th रैंक पर पहुंचे. फिर दूसरे चरण में इन्होंने 95 पॉइंट अर्जित किये. इस तरह इनका कुल स्कोर 187 पॉइंट हो गया. इसके पश्चात उन्होंने तीसरे चरण में 12th रैंक प्राप्त की. इस तरह सारे चरणों में खेलने के बाद वे 12th रैंक में पहुचने के कारण बाहर हो गए और उन्हें कोई भी पदक न मिल सका.

अन्य जीवन परिचय पढ़े:

Updated: August 24, 2016 — 3:03 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *