ताज़ा खबर

रक्षाबंधन (राखी) 2018 में कब है? रक्षाबंधन पर हिंदी शायरी कविता | Raksha Bandhan Shayari, 2018 Date in Hindi

रक्षाबंधन (राखी) 2018 में कब है? रक्षाबंधन  पर हिंदी शायरी कविता  (Raksha Bandhan (Rakhi) Shayari, Kavita, 2018 date Muhurt  in Hindi )

 रक्षाबंधन भाई बहन का फेस्टिवल है, इसके महत्व को जानिए, इसके पीछे के इतिहास को जानिए और समझे की आज यह अपनी वास्तविकता से कितना परे होता दिखाई दे रहा हैं. यह पूरा आर्टिकल आपको पौराणिक युग , इतिहास से लेकर आज के आधुनिकरण  तक रक्षाबंधन से परिचय करायेगा.

रक्षाबंधन कब मनाई जाती हैं ? ( Raksha Bandhan shubh muhurat 2018 Date Time)

रक्षाबंधन श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाई जाती हैं. यह सावन के महीने का अंतिम दिन होता हैं. इस वर्ष 2018 में यह रक्षाबंधन का त्यौहार 26 अगस्त, दिन रविवार को मनाया जायेगा.

रक्षाबंधन 2018 का शुभमुहूर्त ( Raksha bandhan Shubh Muhurat 2018):

क्र काल समय अन्तराल
1 राखी बाँधने का शुभ समय शाम 1.44 से 4.15 तक 2 घंटे 31 मिनिट

रक्षाबंधन का महत्व (Raksha Bandhan  Mahtva In Hindi)

यह श्रावण मास की पूर्णिमा पर मनाया जाता हैं. भारत के मुख्य त्यौहारों में रक्षाबंधन का त्यौहार आता हैं. बहन अपने भाई को रक्षा सूत्र बांध कर उसकी लंबी उम्र की प्रार्थना करती हैं. भाई उसकी रक्षा का वचन देता हैं.यह परम्परा बरसो से निभाई जा रही हैं.

रक्षाबंधन की कहानी  (Raksha Bandhan Story):

धार्मिक त्यौहारों के पीछे सदैव कुछ कहानियाँ होती हैं जिनके कारण त्यौहार मनाये जाते हैं. यह कहानियाँ ही मानव जीवन में इन त्यौहारों के प्रति आस्था बनाये रखती हैं. उसी प्रकार राखी के इस उत्सव के पीछे भी एक पौराणिक कथा प्रचलित हैं.

देवताओं और दानवो के बीच युद्ध चल रहा था जिसमे दानवो की ताकत देवताओं से कई गुना अधिक थी. देवता हर बाजी हारते दिखाई पड़ रहे थे. देवराज इंद्र के चेहरे पर भी संकट के बादल उमड़ पड़े थे. उनकी ऐसी स्थिती देख उनकी पत्नी इन्द्राणी भयभीत एवं चिंतित थी. इन्द्राणी धर्मपरायण नारी थी उन्होंने अपने पति की रक्षा हेतु घनघोर तप किया और उस तप से एक रक्षासूत्र उत्पन्न किया जिसे इन्द्राणी ने इंद्र की दाहिनी कलाई पर बांधा. वह दिन श्रावण की पूर्णिमा का दिन था. और उस दिन देवताओं की जीत हुई और इंद्र सही सलामत स्वर्गलोक आये. तब एक रक्षासूत्र पत्नी ने अपने पति को बांधा था लेकिन आगे जाकर यह प्रथा भाई बहन के रिश्ते के बीच निभाई जाने लगी जो आज रक्षाबंधन के रूप में मनाई जाती हैं.

रक्षाबंधन या राखी का इतिहास  ((Raksha Bandhan history)

इतिहास में ऐसी कई कहानियाँ हैं, जिसमे बड़े-बड़े युद्ध को इस रक्षा सूत्र ने बचाया हैं. पहले वादे की कीमत जान से बढ़कर हुआ करती थी. अगर भाई से बहन को उसके पति की रक्षा का वचन दिया हैं तो आन बान शान परे रख उस वचन का मान रखा जाता था.राजपुताना इतिहास में महारानी कर्णावती ने अपने राज्य की रक्षा हेतु मुग़ल बादशाह हुमायु को रक्षा सूत्र बांधा था और इसके बदले में हुमायु ने बहादुर शाह जफ्फर से चित्तोड़ की रक्षा की थी. इस तरह इस त्यौहार का मान इतिहास में रखा जाता था.

रक्षाबंधन का सही मायना  (Rakhi Meaning):

धार्मिक त्यौहार एवम रीतिरिवाज कई अच्छी बातों को ध्यान में रखकर मनाये जाते हैं. नारी शारीरिक बल में पुरुषों से कमजोर होती हैं. इस कारण सुरक्षा की दृष्टी से इस सुंदर त्यौहार को बनाया गया पर कलयुग के दौर में परिपाठी बदलती ही जा रही हैं.

रक्षाबंधन का आधुनिकरण

आज के समय में यह एक त्यौहार की जगह लेन देन का व्यापार हो चूका हैं.बहने अपने भाई से गिफ्ट रूपये ऐसी चीजों की मांग करती हैं. शादी हो जाने पर मायके से ससुराल गिफ्ट्स एवं मिठाइयाँ भेजी जाती हैं. मान परम्परा का नहीं अब लेन देन का होता हैं. पिछले वर्ष इतना दिया इस वर्ष कम क्यूँ दिया. आज यह त्यौहार हिसाब किताब का रक्षाबंधन हो चूका हैं. ऐसी महंगाई में कहीं ना कहीं यह त्यौहार भाइयों पर बोझ बनते जा रहे हैं. रक्षा और कामना से परे हट यह एक व्यापार का रूप बनते जा रहे हैं.

अगर आज रक्षाबंधन की श्रद्धा सभी के भीतर उतनी ही प्रबल होती जितनी की वास्तव में इतिहास में हुआ करती थी तो आये दिन औरतों पर होने वाले अत्याचार इस तरह दिन दोगुनी रात चौगुनी रफ्तार से ना बढ़ते. यह त्यौहार बस एक दिखावे का रूप हो गया हैं.

कैसे मनाया जाता है रक्षाबंधन  (Raksha bandhan Celebration)

अगर असल मायने में इसे मनाना हैं तो इसमें से सबसे पहले लेन देन का व्यवहार खत्म करना चाहिये. साथ ही बहनों को अपने भाई को हर एक नारी की इज्जत करे, यह सीख देनी चाहिये. जरुरी हैं कि व्यवहारिक ज्ञान एवम परम्परा बढे तब ही समाज ऐसे गंदे अपराधो से दूर हो सकेगा.

रक्षाबंधन का यह त्यौहार मनाना हम सभी के हाथ में हैं और आज के युवावर्ग को इस दिशा में पहला कदम रखने की जरुरत हैं. इसे एक व्यापार ना बनाकर एक त्यौहार ही रहने दे. जरूरत के मुताबिक अपनी बहन की मदद करना सही हैं लेकिन बहन को भी सोचने की जरुरत हैं कि गिफ्ट या पैसे पर ही प्यार नहीं टिका हैं. जब यह त्यौहार इन सबके उपर आयेगा तो इसकी सुन्दरता और भी अधिक निखर जायेगी.

कई जगह पर पत्नी अपने पति को राखी बांधती हैं. पति अपनी पत्नी को रक्षा का वचन देता हैं. सही मायने में यह त्यौहार नारी के प्रति रक्षा की भावना को बढ़ाने के लिए बनाया गया हैं. समाज में नारी की स्थिती बहुत गंभीर हैं क्यूंकि यह त्यौहार अपने मूल अस्तित्व से दूर हटता जा रहा हैं. जरुरत हैं इस त्यौहार के सही मायने को समझे एवम अपने आस पास के सभी लोगो को समझायें. अपने बच्चो को इस लेन देन से हटकर इस त्यौहार की परम्परा समझायें तब ही आगे जाकर यह त्यौहार अपने एतिहासिक मूल को प्राप्त कर सकेगा.

त्यौहारों के इस देश में रक्षाबंधन भाई बहन के प्रेम का त्यौहार हैं जो सदियों से मनाया जा रहा हैं. रक्षाबंधन श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता हैं. इसमें बहन अपने भाई को राखी बाँधती हैं और भाई उसकी रक्षा का वचन देता हैं और बहन भाई की लंबी उम्र की कामना करती हैं. प्रेम और सौहाद्र का यह रिश्ता इस पवित्र बंधन को और भी अधिक मजबूत करता हैं.

रक्षाबंधन पर हिंदी शायरी (Raksha Bandhan Hindi Shayari, Kavita)

  • बधाई हो बधाई राखी हैं आई, मेरी प्यारी बहना ढेर सारी मिठाई लाई. सबसे सुंदर राखी उसने मेरी कलाई पर सजाई,

    आई रे आई खुशियों की बेला आई.|
    Rakshabandhan Hindi Wishes for sister


============================================

  • सावन की बौछारों के बीच सुंदर पुष्प हैं खिला, भाई बहन के रिश्ते की हैं यह पावन बेला. घर में हैं ऐसी चहल पहल जैसे कोई मेला,

    बहनों के लिए गीता गा रहा हैं भाई अलबेला||
    Happy Rakshabandhan Hindi Kavita

============================================

  •  रंग बिरंगी दुनियाँ में यह त्यौहारों की चमक, 

भाई बहन के जीवन में रक्षाबंधन का महत्व.
कर्तव्य का हैं भान कराता यह बंधन का त्यौहार,
खुशियों से मनाते हैं हम मिलाकर रक्षाबंधन हर बार.|

Raksha Bandhan Hindi Shayari Kavita

=========================================

  • बैठे हैं हम इंतजार में, चाहिये तौहफे हमे हजार में. तू भले देर से आना भैया,

    पर ATM साथ लाना भैया.

    छोड़ आना बीवी को भाई के घर,

    वरना खाएगी हमारा सिर.
    Funny Rakshabandhan hindi shayari wishes

=========================================

  • रिश्तों की धूम में हैं यह सबसे सुंदर संबंध भाई बहन के रिश्ते को जो बनाये अनूठा बंधन हैं वो निराला त्यौहार रक्षाबंधन

    आईये मनाये और करे सभी का अभिनन्दन
    Happy Raksha Bandhan Shayari In Hindi

=========================================

 

  • लड़ना झगड़ना हैं इस रिश्ते की शान
    रूठ कर मनवाना ही तो हैं इस रिश्ते का मान
    भाई बहनों में बसती हैं एक दूजे की जान
    करता हैं भाई पुरे बहन के अरमान
    rakhi shayari hindi wishes

=========================================

  • कितना भी रूठे, रूठकर माने पर प्यार ना होता इसमें कम बिन बोले समझत जाती बहना भाई का गम

    दुनियाँ से लड़ जायेगी पर ना होने देगी आँखे नम
    Bhai Bahan Rakhi Hindi Shayari

 =======================================

  • यूँ तो हमेशा ही लड़ते हैं ये भाई-बहन के रिश्ते
    पर बहना की बिदाई में भाई भी हैं सिसकते
    कितना भी लड़ जाए ये दोनों
    लेकिन जुदाई का गम ना सह पाते ये रिश्ते
    emotional rakshabandhan hindi shayari kavita

=========================================

  • हर बहना करती हैं ईश्वर से दुआ भाई को मिले जिंदगी खुशनुमा कभी ना हो उसके माथे पर लकीरे

    जीवन की हो सदा सुंदर तस्वीरे

Rakshabandhan wishes in hindi for brother

=========================================

  • बिन भाई बहन के हैं अधुरा परिवार ये रिश्ता हैं घर की सबसे सुंदर शान त्यौहारों में हैं राखी का अपना मान

    जी जान से मनायेंगे राखी का त्यौहार
    Raksha Bandhan cute Hindi Shayari

अन्य पढ़े:

 

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

3 comments

  1. Raksha bandhan ek Aisha tyohar hai jo bhai bahan ko pyar ki dor se bandhe rakhta hai. Wastav me hume ye sayri bahut achi lagi.

  2. राखी का त्योंहार बहुत ही पवित्र होता है।इस दिन का बहुत बड्रा ही महत्व है।यह सायरी हमें बहुत अच्छी लगी

  3. सावन की बौछारों के बीच सुंदर पुष्प हैं खिला,
    भाई बहन के रिश्ते की हैं यह पावन बेला |
    घर में हैं ऐसी चहल पहल जैसे कोई मेला,
    बहनों के लिए गीता गा रहा हैं भाई अलबेला||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *