विनेश फोगाट का जीवन परिचय, ताज़ा खबर, ओलिंपिक | Vinesh Phogat Biography, Olympic, Latest Update in Hindi

विनेश फोगाट का जीवन परिचय, किससे संबंधित है, कौन है, पिता का नाम, ताज़ा खबर, ओलिंपिक, शादी, पति [Vinesh Phogat Biography, Olympic, Latest Update in Hindi] (Tokyo Olympic, Match Day, Sisters, Husband, Father, Ranking, Marriage)

भारत के ऐसे बहुत सारे बेहतरीन खिलाड़ी हैं जो दूसरे देश में जाकर भारत देश का नाम रोशन करते हैं। उनका जीवन बहुत प्रेरणादायक होता है क्योंकि एशियाई खेलों में व्हिच स्वर्ण पदक हासिल करके पूरे विश्व में भारत का नाम रोशन करते हैं। ऐसी ही एक प्रेरणादायक महिला विनेश फोगाट जो एक भारतीय महिला पहलवान है जिसने एशियाई खेल में स्वर्ण पदक जीतकर भारत के नाम एक और इतिहास रच दिया। आज हम विनेश फोगाट के जीवन से इस पोस्ट के जरिए रूबरू होंगे और उनकी प्रेरणादायक कहानी जानेंगे।

विनेश फोगाट का प्रारंभिक जीवन (Early Life)

भारत के हरियाणा राज्य के बलाली में 25 अगस्त 1994 को जन्मी विनेश फोगाट मात्र 23 साल की है। उनके पिता राजपाल फोगाट और मां प्रेमलता फोगाट उन पर बहुत गर्व करते हैं। विनेश फोगाट ने के सी एम सीनियर सेकेंडरी स्कूल जो हरियाणा के झांजू कला क्षेत्र में स्थित है वहां से अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की। उसके बाद रोहतक में अगर उन्होंने एमडीयू यूनिवर्सिटी से अपनी आगे की शिक्षा पूरी की। आपने गीता एवं बबीता फोगाट का नाम तो सुना होगा और उन से बनी फिल्म दंगल भी देखी होगी। विनेश फोगाट उन दोनों की भी बहन है परंतु चचेरी।

विनेश फोगाट की शादी (Marriage)

महिला पहलवान विनेश फोगाट के जीवन में उन्हें उनका प्यार मिल गया जिससे उन्होंने शादी भी कर ली। उनके पति का नाम सोमबीर राठी है जो खरखोदा के रहने वाले हैं। सोमवीर एक जाने-माने पुरुष पहलवान हैं जो राष्ट्रीय चैंपियनशिप के दौरान कांस्य पदक हासिल कर देश का नाम रोशन कर चुके हैं। विनेश और सोमबीर की शादी कुछ अटपटे तरीके से हुई जब उन्होंने साथ के बजाय 8 फेरे लेकर एक नया रिकॉर्ड कायम कर दिया। आठवें फेरे के दौरान उन्होंने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का वचन लेकर देश का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया और सब को एक नया पाठ पढ़ाया।

विनेश फोगाट पिता (Father)

उनके गांव में एक जमीनी विवाद के चलते विनेश के पिता का बचपन में ही किसी ने कत्ल कर दिया था। जिसके बाद विनेश की माता ने उन्हें अकेले ही पाला परंतु विनेश के ताऊ महावीर फोगाट ने विनेश के करियर को बनाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया। बचपन से ही विनेश के ताऊ ने विनेश और उनकी बहन जिसका नाम प्रियंका है दोनों का ख्याल रखा और कैरियर को आगे बढ़ाने के लिए पहलवानी की ट्रेनिंग देते रहे। आज विनेश के ताऊ की मेहनत रंग लाई और एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक हासिल कर विनेश ने अपने देश के साथ-साथ महावीर सिंह फोगाट का नाम भी रोशन कर दिखाया।

विनेश फोगाट रियो ओलंपिक में प्रदर्शन (Rio Olympic)

साल 2016 में विनेश फोगाट ने रियो ओलंपिक में कुश्ती का प्रदर्शन दिखाने के लिए पूरी जान लगा दी। उस दौरान बेहतरीन खेल प्रदर्शन और अपनी पहलवानी दिखा दे हुए उन्हें गहरी चोट लग गई। परंतु उसके बावजूद भी उसने पहलवानी नहीं छोड़ी और लगातार पहलवानी में मेहनत करती रही जिसके बाद एशियाई खेलों में दूसरा गोल्ड मेडल भारत के नाम कर उन्होंने अपना नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज करा लिया।

विनेश फोगाट की उपलब्धि (Achievement)

विनेश फोगाट मात्र 23 साल की है परंतु अब तक उन्होंने काफी सारे खेलों में उपलब्धि हासिल कर भारत के नाम कई रत्न किए हैं।

  • साल 2013 कॉमनवेल्थ रेसलिंग चैंपियनशिप के दौरान विनेश फोगाट ने 51 किलो वर्ग मैं अपनी पहलवानी दिखाकर सिल्वर मेडल अपने नाम किया।
  • उसके बाद साल 2014 में भी कॉमनवेल्थ गेम्स में उनका नाम दर्ज हुआ जिसमें 48 किलोग्राम वर्ग में अपना प्रदर्शन दिखाने के बाद उन्होंने गोल्ड मेडल अपने नाम किया।
  • साल 2014 में दोबारा से एशियन चैंपियनशिप में अपना बेहतरीन प्रदर्शन 48 किलोग्राम वर्ग में उन्होंने दिखाया जिसमें उन्हें ब्रोंज मेडल प्राप्त हुआ।
  • एशियन चैंपियनशिप 2016 के दौरान भी उन्होंने अपनी हिम्मत और साहस के चलते 53 किलो वर्ग में बेहतरीन प्रदर्शन के चलते ब्रांच मेडल हासिल किया।
  • 2016 में ही दूसरी चैंपियनशिप में भी उन्होंने हिस्सा लिया उसमें भी 53 किलोग्राम वर्ग में सिल्वर मेडल अपने नाम किया।
  • 2017 में एक बार फिर राष्ट्रीय कुश्ती चैंपियन में उन्होंने अपनी जी जान लगा दी जिसके बाद गोल्ड मेडल अपने नाम कर देश का नाम रोशन किया।

विनेश फोगाट रोचक तथ्य (Interesting Facts)

  • विनेश फोगाट ने अपने बचपन में बड़े होकर टेनिस खिलाड़ी बनने का सपना देखा था। परंतु पिता के बाद जब ताऊ ने उनकी देखभाल की तब उन्होंने अपने जीवन का रुख पहलवानी की तरफ मोड़ लिया।
  • दिनेश मशहूर पहलवान महावीर सिंह फोगाट जो वरिष्ठ ओलंपिक कोच तथा द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किए जा चुके हैं उनकी भतीजी है।
  • स्पोर्ट्स एक्सीलेंस प्रोग्राम जो JWS से संबंधित है विनेश को उनका पूरा सपोर्ट प्राप्त है।
  • बचपन में उन्हें कुश्ती बिल्कुल भी अच्छी नहीं लगती थी और वह अपनी बहनों की तरह कुश्ती नहीं करना चाहती थी परंतु फिर भी आज उन्होंने देश का नाम रोशन कर दिखाया।

अन्य पढ़ें –

More on Deepawali

Similar articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here